10 साल के सत्ता सुख ने हमें घमंडी बना दिया था, 2014 में सबक सीखा-राहुल गांधी

नई दिल्ली:कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी 2014 के आम चुनावों की हार को लेकर स्वीकार किया कि कि 10 साल तक सत्ता में रहने की वजह से कांग्रेस में एक हद तक घमंड आ गया था जिसका सबक उन्होंने इस हार से सीखा है।

लंदन स्थित इंटरनेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ स्ट्रैटजिक स्टडीज में राहुल गांधी ने एक सवाल के जवाब में कहा कि नेतृत्व का मतलब सीखना है इसीलिए आपको सुनना होगा।और जब उनसे पूछा गया कि 2014 की हार से आपने क्या सीखा तो उन्होंने जवाब दिया कि 10 साल तक सत्ता में रहने के बाद कांग्रेस में कुछ हद तक घमंड आ गया था और हमने सबक सीखा ।

उन्होंने कहा कि नेतृत्व का काम सबको सुनना है, सहृदयता है और हार को लेकर उन्हें लगता है कि पार्टी के रूप में कांग्रेस में घमंड आ गया था।और ये कभी नही भूलना चाहिए क्योंकि पार्टी भी लोग होते है।

उन्होंने कहा कि अब वो भारत नौकरियां देकर ही अपना कद बढ़ा सकता है साथ ही उन्होंने बताया कि मैंने काफी हद तक हिंसा का सामना किया है जिस कारण अनुभवों ने मुझे लोगों के प्रति दयालु बना दिया।और इसलिए जो कमजोर और सताए होते है मैं उनके प्रति सहानुभूति महसूस करता हूं

राहुल ने रोजगार पर बोलते हुए कहा कि आज भारत में रोजगार एक बड़ी समस्या है।एक तरफ जहां चीन एक दिन में 50 हजार नौकरियां दे रहा है वहीं हमारे यहां एक दिन सिर्फ 450 नौकरियां दी जा रही हैं। लेकिन इस समस्या को सरकार स्वीकार नहीं कर रही।

उन्होंने बताया कि मुझे विभिन्न समुदायों में घूमना पसंद है और सामाजिक न्याय के बारे में बात करते हुए उन्होंने कहा कि सरकार को अधिकार देने वाले के तौर पर देखता हूं तो सामाजिक न्याय सिर्फ तब ही संभव है जब लोकतांत्रिक संस्थानों को मजबूत किया जाए।

जिसके बाद राहुल ने आने वाले आम चुनाव पर बात करते हुए कहा कि इस बार चुनाव काफी सरल होगा।एक तरफ भाजपा तो दूसरी तरफ हर विपक्षी दल है।क्योंकि पहली बार भारतीय संस्थानों पर हमला किया गया है।

Loading...