POK के पुलिस अधिकारी ने माना भारत ने किया था सरर्जिकल स्ट्राइक

दिल्ली: जिस सच को इस्लामाबाद मानने को तैयार नहीं है। जिस सच को पाकिस्तान के पीएम नहीं मान रहे हैं, जिस सच को पाकिस्तानी सेना नहीं मान रही है, जिस सच से आईएसआई इनकार कर रहा है उस सच को पाकिस्तानी पुलिस के एक बड़े अधिकारी ने कबूल किया है। POK के मीरपुर रेंज के पुलिस अधीक्षक (स्पेशल सेल) गुलाम अकबर ने यह कबूल किया है कि भारतीय फौज ने 28 सितंबर की रात को पीओके में सर्जिकल स्ट्राइक किया था।

एक चैनल ने इस पाकिस्तानी अधिकारी को उसका सीनियर अधिकारी बनकर फोन किया और उससे 28 सितंबर की रात की पूरी जानकारी मांगी। दोनों के बीच टेलीफोन पर हुई बातचीत में पुलिस अधीक्षक (स्पेशल सेल) गुलाम अकबर ने कहा पाकिस्तानी अधिकारियों को भारतीय हमले की भनक तक नहीं लगी और पांच सैनिक मारे गए। जिसके बाद पाकिस्तानी सेना ने कई आतंकवादियों के शवों को वहां से तुरंत हटाया। चैनल का दावा है कि उसके पास सर्जिकल स्ट्राइक में मारे गए सैनिकों के नाम भी हैं।

पुलिस अधीक्षक (स्पेशल सेल) गुलाम अकबर से उस रात हुए नुकसान के बारे में जानकारी मांगी। जिसपर अकबर ने उन इलाकों के बारे में बताया जहां सेना ने सर्जिकल स्ट्राइक किया था। अकबर ने कहा भीमबेर के समाना, पुंछ के हाजिरा, नीलम के दूधनियाल और हथियान बाला के कयानी में भारतीय फौज ने हमला किया। उसने कहा भारतीय सेना के सर्जिकल स्ट्राइक के तुरंत बाद पाकिस्तानी सेना ने पूरे इलाके की घेराबंदी कर दी।

पाकिस्तानी पुलिस अधीक्षक (स्पेशल सेल) गुलाम अकबर ने कहा आतंकियों के शव को एंबुलेंस में डालकर पाकिस्तानी सेना ले गई। उसने ये भी कहा कि कई आतंकियों के शव को गांव में ही दफन कर दिया गया। 29 सितंबर को डीजीएमओ रणधीर सिंह या भारत सरकार की तरफ से अबतक इस बात की आधिकारिक पुष्टि नहीं की गई है कि सर्जिकल स्ट्राइक में कितने आतंकी मारे गए। सरकार ने केवल इतना कहा है कि कई आतंकी मारे गए हैं।

इस्लामाबाद से जारी बयान में कहा गया कि भारतीय फौज ने एलओसी से फायरिंग की जिसमें उसके दो सैनिक मारे गए। इसके उलट अकबर ने कहा कि उस हमले में पांच पाकिस्तानी सैनिक मारे गए। अकबर ने सर्जिकल स्ट्राइक के समय के बारे में भी जानकारी दी। उसने कहा कि रात के दो बजे से चार बजे या पांच बजे तक गोलीबारी होती रही। भारतीय फौज ने अलग अलग मोर्चे पर हमला किया था।

Loading...