मैं बेचैन ,बेसब्र, अधीर,आतुर हूं ताकि नागरिकों को अच्‍छा जीवन मिले,पीएम की कही कुछ बड़ी बातें

नई दिल्ली:स्‍वतंत्रता दिवस के अहम मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लाल किले पाए तिरंगा फहराने के बाद देश को स्वतंत्रा दिवस की शुभकामनाएं देते हुए देश की उपलब्धियों के बारे में बात की।साथ ही पिछले सरकार पर टिप्‍पणी करते हुए कहा देश को सौ साल और लगता अगर देश का नेतृत्व उस सरकार के हाथों में होता।

आइये जाने प्रधानमंत्री के संबोधन से जुडी कुछ बड़ी बातें…

-सभी भारतीयों के सुविधा के लिए वॉटर फॉर ऑल, सैनिटेशन फॉर ऑल, स्‍किल फॉर ऑल, हेल्‍थ पर ऑल, इंश्‍योरेंस फॉर ऑल, कनेक्‍टीविटी फॉर ऑल जैसे मंत्र ताकि सभी को खाना, स्‍वास्‍थ्‍य,कनेक्‍टीविटी, कुशलता, स्‍वच्‍छता, सुरक्षा, जल की कभी कमी महसूस न हो.

-उन्होंने खुसखबरी दी कि हमारे वैज्ञानिकों के उत्कृष्ट पर हमें गर्व है कि साल 2022 यानि देश के 75वे स्वतंत्रता दिवस या उससे पहले ही हमारे देश को अंतरिक्ष में तिरंगा ले जाने वाला चौथा देश का सौभाग्य प्राप्त होगा।

-उन्होंने बताया कि देश में टैक्स न देने की हवा बनायीं जा रही है।आज इमानदार करदाताओं के टैक्‍स पर देश चलता है।डायरेक्‍ट टैक्‍स देने वालों की संख्‍या पौने सात करोड़ तक है।

-उन्होंने बहादुर बेटियों के लिए भी खुसखबरी दी कि भारतीय सशक्त सेना में शॉर्ट सर्विस कमीशन के जरिए नियुक्त महिला अधिकारियों को पुरुष समकक्ष अधिकारियों की तरह पारदर्शी प्रक्रिया द्वारा स्थायी कमीशन प्राप्त होगा।

-उन्होंने 25 सितंबर से देश में जन आरोग्य योजना लागू करने का ऐलान किया।

-महिलाओं के उपलब्धियों की बात करते हुए कहा कि महिलाये आज खेत से लेकर खेल के मैदान तक हमारा नाम ऊंचा कर रहीं हैं।

– अपनी उपलब्‍धियों को गिनाते हुए उन्‍होंने कहा कि हमने ओबीसी आयोग को संवैधानिक दर्जा दिया, दिक्‍कतों के बावजूद जीएसटी लागू किया और सैनिकों के हित में वन रैंक वन पेंशन योजना लेकर आए।

-देश में आतंकवाद को लेकर जम्‍मू कश्‍मीर के त्रिपुरा, मेघालय और छत्‍तीसगढ़ के नक्‍सलवाद की भी चर्चा की।

-जलियांवाला बाग हत्याकांड को याद कर देश को इस वीभत्स घटना के सौ साल होने की बात याद दिलाई।

-हाल ही में हुए दुष्कर्म की घटनाओं का जिक्र करते हुए कहा कि दुष्‍कर्म पीड़िता बेटी से अधिक पीड़ा देश को होती है।

– मैं बेचैन हूं, बेसब्र हूं, अधीर हूं आतुर हूं कि नागरिकों को अच्‍छा जीवन दे सकूं और चौथी औद्योगिक क्रांति भारत को करना है।

– जिद है एक सूर्य उगाना है… अंबर से ऊंचा जाना है… एक भारत नया बनाना है।

– प्रधानमंत्री मोदी ने जय हिंद, भारत माता की जय व वंदे मातरम् के नारे लगाते हुए संबोधन को समाप्त किया।

(Visited 58 times, 1 visits today)
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *