PM MODI 10 POINT

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के भाषण की 10 सबसे बड़ी बातें

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के भाषण की 10 सबसे बड़ी बातें

नई दिल्ली:  पीएम मोदी ने चौथी बार लाल किले से देश को संबोधित किया। अपने 55 मिनट के भाषण में पीएम मोदी ने देश के सामने 2022 तक न्यू इंडिया का विजन देश के सामने रखा। अपने भाषण में पीएम मोदी ने आतंकवाद, भ्रष्टाचार, नोटबंदी और युवओं को समान अवसर का जिक्र किया। पीएम मोदी ने आस्था के नाम पर हिंसा बंद करने की बात भी कही। कश्मीर की समस्या का भी जिक्र प्रधानमंत्री ने अपने भाषण में किया।

  1. कभी कभार प्राकृतिक आपदाएं हमलोंगों के लिए बहुत बड़ी चुनौती बन जाती है। अच्छी वर्षा देश को फलने फूलने में बहुत ही योगदान देती है। लेकिन जलवायु परिवर्तन का नतीजा है कि कभी कभी ये प्राकृतिक आपदा संकट के मोड़ लेते हैं। पिछले दिनों देश के कई भू भागों में इस प्राकृतिक आपदा का संकट आया। पिछले दिनों अस्पताल में हमारे मासूमों की मौत हुई। सवा सौ करोड़ देशवासियों की संवेदनाएं इस आपत्ति में सबके साथ हैं।
  2. न्यू इंडिया तो समृद्ध हो, शक्तिशाली हो, सभी को समान अवसर उपलब्ध हो, भारत का विश्व में दबदबा हो, स्वतंत्रता संग्राम हमारी भावना से जुड़ा है। जब आजादी का आंदोलन चल रहा था तब शिक्षक स्कूल में पढ़ाई करवा रहा था, किसान खेत में काम कर रहा था, पुजारी मंदिर में पूजा करवा रहा था उन सभी के मन में ये संकल्प था कि वो जो भी कर रहे हैं देश की आजादी के लिए कर रहे हैं। घर में व्यंजन जब भगवान के आगे पूजा जाता है तो व्यंजन प्रसाद बन जाता है। जब हम राष्ट्र प्रेम को समर्पित कर काम करते हैं तो उसकी ताकत बढ़ जाती है।
  3. 1 जनवरी 2018 को समान्य नहीं मानता। जिन्होंने 21वीं सदी में जन्म लिया है उनके लिए ये वर्ष सामान्य नहीं है। वो जब 1 जनवरी 2018 को 18 साल के होंगे तो वो 21वीं सदी के भाग्य विधाता होंगे। मैं इन सभी नौजवानों को हृदय से सम्मान करता हूं। उनका अभिनंदन करता हूं। आप देश की विकास यात्रा में भगीदार बनिये।
  4. जब कुरुक्षत्र के युद्ध में अर्जुन ने कृष्ण से काफी सवाल पूछे तो कृष्ण ने कहा जैसा मन का भाव होता है उसका परिणाम भी वैसा ही होता है। हमारे लिए भी अगर मन का विश्वास पक्का होगा उज्जवल भारत के लिए संकल्प बद्ध होंगे तो हमें भी निराशा को छोड़कर आत्मविश्वास के साथ आगे बढ़ना है। अब चलता है, होता है का जमाना चला गया अब आवाज ये उठे कि बदला है, बदल सकता है बदल रहा है। यही विश्वास हमारे भीतर होगा तो हम भी उस विश्वास के अनुसार काम करेंगे।
  5. देश को लूटकर तिजोरी भरने वाले अब चैन की नींद नहीं सो सकते हैँ। अब लगता है अगर मैं ईमानदारी के रास्ते पर चलूंगा तो चैन से रहूंगा। बेनामी संपत्ति के कानून कितनों दिनों से लटके थे। हमने इसे आगे बढ़ा तो इतने कम वक्त में हमने 800 करोड़ की बेनामी संपत्ति जब्त कर ली है। 30-40 वर्ष से हमारी सेना के लिए OROP का मामला लटका पड़ा था। देश में अनेक राज्य हैं केंद्र सरकार है हमने देखा है कॉपरेटिव फेडरलिज्म के जरिये जीएसटी कामयाब हुआ है। विश्व को अजूबा लगता है कि इतने कम वक्त में जीएसटी का इस तरह से कामयाब होना एक बड़ी बात है।
  6. जम्मू कश्मीर का विकास उसकी उन्नती वहां के नागरिकों के सपनों को साकार करने का प्रयास वहां की सरकार के साथ हम हैं। कश्मीर को दोबारा स्वर्ग बनाने के लिए हम प्रतिबद्ध हैं। कश्मीर पर काफी बयानबाजी होती है। मुट्ठी भर अलगाववादी नए नए पैंतरे रचते रहते हैं। लेकिन उन्हें कामयाब नहीं होने दिया जाएगा। कश्मीर का हल ना गाली से समस्या सुलझने वाली ही, ना गोली समस्या सुलझने वाली है परिवर्तन होगा कश्मीरियों को गले लगाने से।
  7. न्यू इंडिया हमरे लोकतंत्र की सबसे बड़ी ताकत है। लेकिन लोकतंत्र को हमने मतपत्र तक सीमित कर दिया है। लोकतंत्र मतपत्र तक सीमित नहीं हो सकता है। हम……….. लोकमान्य तिलक ने कहा था स्वराज हमारा जन्मसिद्ध अधिकार है। आज हमारा नारा होना चाहिए सुराज हमारा जन्मसिद्ध अधिकार है।
  8. तीन तलाक के कारण कई मुस्लिम बहनें खराब जिंदगी जीने के लिए मजबूर हुई। ऐसी बहनों ने देश में एक आंदोलन खड़ा किया। पूरे देश में तीन तलाक के खिलाफ एक माहौल का निर्माण हुआ। जो बहनें तीन तलाक की लड़ाई लड़ रही है उनका मैं अभिनंदन करता हूं। महिला सशक्तिकरण में वो सफल होंगी ऐसा मेरा विश्वास है।
  9. कभी कभी आस्था के नाम पर धैर्य के अभाव में लोग ऐसा काम कर बैठते हैं जिससे सदभावना बिगड़ जाती है। सभी को साथ लेकर चलना इस देश का संकल्प है। इसलिए आस्था के नाम पर हिंसा को बर्दाश्त नहीं किया जा सकता। अस्पताल में आग लगा दी जाती है, बसों में आग लगा दी जाती है ये सही नहीं। आस्था के नाम पर हिंसा के रास्ते पर देश चल नहीं सकता।
  10. कालेधन के कारोबारी शेल कंपनियां चलाते थे। और जब नोटबंदी के बाद जब डाटा देखा गया तो 3 लाख ऐसी कंपनियां हैं जो केवल हवाला कारोबार करती थी। उनमें से पौने दो लाख कंपनियों का रजिस्ट्रेशन हमने बंद कर दिया। कुछ शेल कंपनियां ऐसी हैं जो एक ही एड्रेस पर 400 कंपनियां चल रही थी। हमने भ्रष्टाचार के खिलाफ बड़ी लड़ाई छेड़ी। नोटबंदी में सवा सौ करोड़ लोगों ने जिस विश्वास को दिखाया आज उसी का परिणाम है कि भ्रष्टाचार के खिलाफ हम कदम उठाने में सफल हो रहे हैं।
Loading...

Leave a Reply