यूपी के बाद अब उड़ीसा की बारी, भुवनेश्वर में पीएम के रोड शो में लगे मोदी-मोदी के नारे

नई दिल्ली:  2019 के लोकसभा चुनाव और उड़ीसा विधानसभा चुनाव के लिए बीजेपी की तैयारी शुरु हो चुकी है। इसी को लेकर बीजेपी कार्यकारिणी की बैठक के लिए भी बीजेपी ने ओडीशा के भुवनेश्वर को चुना। पीएम ने कर्यकारिणी की बैठक में पहुंचने से पहले एयरपोर्ट से लेकर राजभवन तक 8 किलोमीटर लंबा रोड शो किया। जिसमें बड़ी संख्या में  लोग पीएम को देखने पहुंचे। पीएम बनने के बाद नरेंद्र मोदी का ये पांचवा ओडीशा दौरा है।

पीएम लोगों का अभिवादन करते हुए अपनी गाड़ी के गेट पर लटके हुए थे। ठीक उसी तरह से जैसा उन्होंने वाराणसी में रोड शो के दौरान किया था। पीएम मोदी ऐसे पहले पीएम हैं जिन्होंने ओडीशा के भुवनेश्वर में इस तरह से रोड शो किया। रोड शो के दौरान कई जगहों पर पीएम मोदी और सड़क किनारे खड़े लोगों के बीच महज 10 फीट की दूरी रह गई। पीएम को देखने के लिए लोगों में काफी उत्साह था। लोगों ने उनकी गाड़ी पर पुष्प वर्षा की। जिससे पीएम मोदी की गाड़ी जो काले रंग की थी वो केसरिया रंग की हो गई।

ये भी पढें :

– MCD चुनाव के लिए बीजेपी का संकल्प पत्र, 10 रुपये में गरीबों को मिलेगी थाली
– एजाज खान भूल गए मर्यादा, पीएम मोदी और सीएम योगी पर बेहद आपत्तिजनक बोल

रोड शो के दौरान रास्ते भर लोगों ने मोदी मोदी के नारे लगाए। पीएम के साथ धर्मेंद्र प्रधान भी मौजूद थे। पीएम मोदी के इस रोड शो के साथ ही कहा जा सकता है कि बीजेपी ने उड़ीसा में 2019 के चुनाव की तैयारी भी शुरु कर दी है। खासबात ये है कि 2019 में उड़ीसा में लोकसभा चुनाव और विधानसभा चुनाव एक साथ ही होगा। ओडीशा में बीजेपी के लिए चुनौती बड़ी है। क्योंकि वहां 2000 से नवीन पटनायक की सरकार है।

हलांकि पिछले चुनाव में बीजेपी का प्रदर्शन कुछ खास नहीं रहा था। क्योंकि ओडीशा की 147 सदस्यों वाली विधानसभा में बीजेपी के महज 10 विधायक हैं। लेकिन हाल ही में हुए स्थानीय निकाय चुनाव में बीजेपी दूसरे नंबर की पार्टी रही थी। जिसके बाद बीजेपी नेताओं का कार्यकर्ताओं में भी जोश भरा है। यही वजह है कि 20 साल बाद ओडीशा में बीजेपी राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक हो रही है। इससे पहले 1997 में बीजेपी कार्यकारिणी की बैठक ओडीशा में हुई थी।

पीएम मोदी से पहले बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह का भी ओडीशा में जोरदार स्वागत किया गया था। उन्हें 74 कमल के फूल की माला पहनाई गई। और 74 कमल फूल देकर स्वागत किया गया। दरअसल इसका एक सांकेतिक मतलब था। ओडीशा विधानसभा में 147 सीटें हैं। और वहां बहुमत के लिए 74 सीट की जरुरत होती है। इसलिए अमित शाह को एक तरह से ईशारों ईशारों में ये संदेश दिया गया कि 2019 में ओडीशा में बीजेपी की सरकार बनने जा रही है।

Loading...