चुनाव के नतीजों से पहले ही पीएम मोदी योगी को सीएम बनाने का फैसला कर चुके थे!

नई दिल्ली: योगी आदित्यनाथ को यूपी का सीएम बनाने का फैसला आखिरी वक्त में लिया गया। अबतक यही बात कही जाती रही थी। लेकिन अपने सबसे ताजा इंटर्व्यू में सीएम योगी ने जो कहा उससे यही अंदाजा लगाया जा रहा है कि उन्हें सीएम बनाने का फैसला 11 मार्च को यूपी चुनाव नतीजों से पहले ही लिया जा चुका था।

खबरी डॉट कॉम को दिये अपने इंटर्व्यू में योगी ने बताया उनके पास बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह का फोन आया। योगी ने कहा 17 मार्च को मेरे पास अमित शाह का फोन आया और उन्होंने मुझसे पूछा मैं कहां हूं। मैंने उनसे कहा मैं गोरखपुर हूं। उन्होंने मुझसे दिल्ली आने को कहा। मैंने कहा गोरखपुर से दिल्ली जानेवाली आखिरी ट्रेन जा चुकी है। जिसके बाद 18 मार्च को उन्होंने मुझे दिल्ली आने के लिए चार्टर्ड प्लेन भिजवा दिया।

ये भी पढें :

-जुड़वां बच्चों को गोद में उठाए इस पिता की तस्वीर ने दुनिया को झकझोर दिया है

-यहां सैंकड़ो रोबोट एक साथ कर रहे हैं परेड, ऐसा नजारा पहले नहीं दिखा, Video Viral

इसके बाद 18 मार्च को दिल्ली पहुंचने के बाद अमित शाह ने उन्हें फैसला बता दिया। साथ ही इसे गोपनीय रखने की बात भी कह दी। क्योंकि उसी दिन उत्तराखंड में त्रिवेंद्र सिंह रावत सीएम पद की शपथ लेनेवाले थे। देहरादून में शपथ ग्रहण का कार्यक्रम खत्म होने के बाद उसी दिन 18 मार्च को ही लखनऊ में बीजेपी विधायकों की बैठक हुई। जिसमें योगी को सीएम चुने जाने का औपचारिक एलान कर दिया गया।

दरअसल यूपी चुनाव के नतीजे आने से पहले ही पीएम मोदी योगी को यूपी का सीएम बनाने का फैसला कर चुके थे। ये बात इससे साफ हो जाता है कि योगी आदित्यनाथ का नाम स्पेन जानेवाले सांसदों के प्रतिनिधिमंडल में शामिल था। लेकिन पीएम मोदी ने योगी का नाम उस लिस्ट से हटवा दिया था। उस वक्त योगी को भी इस बात का एहसास नहीं था कि उनके जिम्मे यूपी की जिम्मेदारी आनी है इसलिए उनका नाम विदेश जाने वाले सांसदों की लिस्ट से हटा दिया गया। लेकिन 18 मार्च को ये तब साफ हुआ जब अमित शाह ने योगी को ये जनकारी दी कि उन्हें यूपी का सीएम बनाया जा रहा है।

Loading...

Leave a Reply