CEO को लेकर CM अखिलेश के घर पहुंचा रिक्शावाला, मालामाल होकर वापस लौटा

CEO को लेकर CM अखिलेश के घर पहुंचा रिक्शावाला, मालामाल होकर वापस लौटा

लखनऊ: लखनऊ की सड़कों पर रिक्शा खींचनेवाले मणिराम को इस बात का कतई अंदाजा नहीं था कि दिवाली से दो दिन पहले उसकी किस्मत संपन्नता की दौड़ लगा देगी। गुरुवार को मणिराम एक सावरी को लेकर 5 कालीदास मार्ग की तरफ रवाना हुआ। दरअसल 5 कालीदास मार्ग यूपी के सीएम अखिलेश यागद का घर है। मणिराम को ये तो पता था कि अपने रिक्शे पर सवारी बिठाकर जिस दिशा में बढ़ रहा है वो रास्ता और वो पता सीएम अखिलेश यादव के आवास का है। लेकिन इस बात से मणिराम अनजान था कि उसके रिक्शे पर बैठा सवारी उसके लिए साक्षात लक्ष्मी है।

मणिराम जिस सवारी को लेकर सीएम आवास की तरफ जा रहा था दरअसल वो paytm के सीईओ विजय शेखर शर्मा थे। और शहर में ट्रैफिक जाम होने की वजह से उनकी कार बुरी तरह से उसमें फंस गई थी। सीएम से मिलने का वक्त हो रहा था इसलिए विजय शेखर रिक्शा से सीएम अखिलेश यादव से मिलने पहुंचे।

सीएम अखिलेश ने अपने ट्वीटर अकाउंट पर घटना का जिक्र करते हुए तस्वीर शेयर की। साथ में उन्होंने लिखा कि ट्रैफिक जाम की वजह से paytm के सीईओ को रिक्शे से सीएम आवास तक आना पड़ा। लखनऊ मेट्रो के शुरु होने से शहर की ट्रैफिक समस्या हल हो जाएगी। सीएम आवास पर मणिराम से काफी लंबी पूछताछ की गई। उसके परिवार, बच्चे, उसकी एक दिन की कमाई के बारे में पूछा गया। ये भी पूछा गया कि लखनऊ में वो कहां रहता है?
मणिराम सीएम आवास में गया तो था अपने पुराने रिक्शे पर एक सवारी को लेकर। लेकिन जब वापस लौटा तो उसके दोनों हाथ दिवाली के तोहफों से भरे थे जेब मालामाल हो चुका था और मन गदगद था। सीएम आवास में मणिराम को 6 हजार रुपये नकद मिले, एक नया रिक्शा जो सीएम के निर्देश पर उसे दिया गया था, उसकी पत्नी के लिए समाजवादी पेंशन, एक ई-रिक्शा और लखनऊ में आवासीय क्वार्टर दिया गया।

जब मणिराम से इस बारे में पूछा गया तो उसने कहा मैं कालीदास मार्ग पर बैठकर धूम्रपान कर रहा था। तभी एक सवारी ने मुझे आवाज लगाई। मैं उसे नहीं जानता था। मैंने सोचा था उसे सीएम आवास के बाहर छोड़ दूंगा लेकिन उन्होंने मुझसे बंगले के अंदर चलने को कहा। वहां मैंने सीएम अखिलेश को देखा और उन्हें मैंने सारी बात बता दी।

Loading...

Leave a Reply