भारत की सख्ती से बौखलाया पाकिस्तान, अपने ही नागरिक को बताया भारत का जासूस

नई दिल्ली:  कुलभूषण जाधव पर पाकिस्तान के अड़ियल रुख के बाद अब भारत की तरफ से भी कड़े तेवर अपना लिये गए हैं। जिसके तहत भारत और पाकिस्तान के बीच कोस्टगार्ड स्तर की बातचीत को टाल दिया गया है। दोनों पक्षों में ये बातचीत सोमवार को होनी थी। लेकिन कुलभूषण जाधव पर झूठ पर झूठ बोल रहे पाकिस्तान को कड़ा संदेश देने के लिए इसे टाल दिया गया है।

भारत की तरफ से अपनाए जा रहे इस कड़े तेवर के बाद अब पाकिस्तान बदले की कार्रवाई पर उतर आया है। पाकिस्तान पुलिस ने और तीन भारतीय जासूस को पकड़ने का दावा किया है। पाकिस्तान की तरफ से दावा किया गया है कि ये तीनो भारतीय खुफिया एजेसी रॉ के एजेंट हैं और इन्हें पाक अधिकृत कश्मीर से गिरफ्तार किया गया है। इसमे खासबात ये है कि ये पाकिस्तान जिसे भारत का जासूस बता रहा है वो तीनों पीओके के रहनेवाले हैं।

ये भी पढें :

– मक्का में सोफिया हयात के साथ हुई छेड़खानी और यौन शोषण
– मुलायम का 2019 में गठबंधन से इनकार लेकिन अखिलेश चाहते हैं गठबंधन हो

पाकिस्तानी अखबार डॉन के मुताबिक इनपर कई राष्ट्रविरोधी गतिविधि में शामिल होने का आरोप है। पाकिस्तानी पुलिस के मुताबिक इनके नाम मोहम्मद खलील, इम्तियाज और रशीद हैं। इन सभी को अब्बासपुर के टरोटी गांव का रहनेवाला बताया जा रहा है। पाकिस्तानी पुलिस ने बताया दो आरोपियों की उम्र 30-35 साल है जबकि एक की उम्र 20-25 साल है।

पाकिस्तान ने इन जासूसों को पकड़ने का दावा उस वक्त किया है जब कुलभूषण जाधव को भारत का जासूस बताकर और उसे फांसी की सजा देकर पाकिस्तान चौतरफा घिर चुका है। माना जा रहा है पाकिस्तान ने अपनी फजीहत से बचने के लिए ये नया पैंतरा चला है। पाकिस्तान की इन्हीं हरकतों को देखते हुए भारत की तरफ से द्वीपक्षीय बातचीत पर रोक लगा दी गई है।

पाकिस्तानी पुलिस के डीएसपी ने बताया खलील मुख्य संदिग्ध है। वह नवंबर 2014 में भारत के कश्मीर में अपने रिश्तेदारों से मिलने गया। यहां उसका संपर्क रॉ के अधिकारियों से हुआ। जिन्होंने उसे लालच देकर अपना काम करने के लिए राजी कर लिया। पाक पुलिस के मुताबिक खलील ने इंट्रा कश्मीर ट्रैवल परमिट हासिल करने के बाद यह काम करना शुरु किया।

पाकिस्तानी पुलिस दावा कर रही है कि खलील ने पूछताछ में बताया कि अब्बासपुर सेक्टर के अलग-अलग हिस्सों से करीब 15 बार एलओसी के पार जा चुका है। जबकि उसके साथी 5-6 बार एलओसी के पार जा चुके हैं। डीएसपी खलील के मुताबिक 27 सितंबर 2016 को अब्बासपुर के पुलिस स्टेशन के बाहर बम धमाका करने के लिए इन्होंने आईईडी प्लांट किया था। जिसे ये लोग एलओसी के उस पार से लाए थे।

पाकिस्तान पुलिस के डीएसपी के मुताबिक पाकिस्तान की कानून प्रवर्तन एजेंसी के पास बम ब्लास्ट करने के लिए पांच लाख रुपये देने का ऑफर दिया गया था। जिनमें से डेढ़ लाख रुपया खलील और 50-50 हजार रुपया इम्तियाज और रशीद को देना तय हुआ था।

यानि इसबार पाकिस्तान ने अपने ही नागरिक को गिरफ्तार कर उसे भारत के खुफिया एजेंसी रॉ का जासूस बता रहा है। इससे पहले पाकिस्तान ने ईरान से कुलभूषण जाधव को अगवा करने के बाद कहा वो भारत के लिए पाकिस्तान के बलूचिस्तान में जासूस कर रहा था। इसलिए उसे गिरफ्तार किया गया और फांसी की सजा दी गई।

Loading...

Leave a Reply