पाकिस्तान में मसूद के दो भाई समेत 44 आतंकी गिरफ्तार, क्या इतना काफी है?

नई दिल्ली:  पुलवामा हमले के बाद पाकिस्तान में किये गए एयर स्ट्राइक और बढ़ते अंतरराष्ट्रीय दबाव के बाद पाकिस्तान ने एक और कदम उठाया है। पाकिस्तान के आंतरिक मामलों के मंत्री शहरयार अफ्रीदी ने कहा कि मसूद अजहर के भाई मुफ्ती अब्दुल रऊफ और हम्माद अजहर समेत 44 आतंकियों को गिरफ्तार किया गया है। साथ ही शहरयार ने ये दावा भी कर दिया कि ये कार्रवाई किसी के दबाव में नहीं की गई है।

पाकिस्तान की तरफ से प्रेस कांफ्रेंस कर इस कार्रवाई की जानकारी दी गई। शहरयार ने दावा किया कि पाकिस्तानी सरकार के ये एक्शन किसी बाहरी दबाव में नहीं है। ये कार्रवाई सभी प्रतिबंधित संगठनों के खिलाफ है। जैश सरगना मसूद अजहर के भाई मुफ्ती अब्दुल रऊफ और हम्माद अजहर की गिरफ्तारी को भले ही पाकिस्तान भारत का दबाव मानने से इनकार करे। लेकिन हकीकत कुछ और है।

दरअसल पुलवामा हमले के बाद भारत की तरफ से आक्रामक कूटनीतिक कदम उठाए गए हैं। जिसका नतीजा ये हुआ कि अंतरराष्ट्रीय मंच पर पाकिस्तान अलग-थलग पड़ने लगा। उसपर आतंकियों पर कार्रवाई का चौतरफा दबाव पड़ने लगा था। उसी नतीजा मसूद के दोनों भाईयों समेत 44 आतंकियों पर कार्रवाई है। शहरयार ने ये भी कहा कि भारत ने जो डोजियर सौंपा है उसमें इन दोनों भाइयों का नाम भी शामिल है।

लेकिन असल बात ये है कि क्या पाकिस्तान की ये कार्रवाई में कुछ गंभीरता भी है या फिर केवल एक दिखावा है। जिसमें विश्व मंच तक ये संदेश पहुंचाना है कि वो आतंक के खिलाफ कार्रवाई कर रहा है। लेकिन इस कार्रवाई की आड़ में आतंकियों को पालने-पोसने का काम कर रहा हो।

इससे पहले पाकिस्तान ने हाफिज सईद के जमात-उद-दावा पर भी प्रतिबंध की बात कही थी। लेकिन उसकी सच्चाई अलग थी। जो लिस्ट सामने आई उससे खुलासा हुआ था कि पाकिस्तान सरकार ने इस संगठन पर बैन नहीं लगाया है। केवल इसपर निगरानी की बात कही है।

(Visited 20 times, 1 visits today)
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *