गोवा में 400 स्वयंसेवकों ने दिया इस्तीफा, बीजेपी के लिए खतरे की घंटी

पणजी: गोवा में संघ और बीजेपी के लिए एक नई चुनौती सामने आ खड़ी हुई है। यहां सुभाष वेलिंगकर के समर्थन में 400 स्वयंसेवकों ने संघ से इस्तीफा दे दिया है। उनका कहना है कि जबतक वोलिंगकर की संघ में वापसी नहीं होती है तबतक वो संघ से कोई नाता नहीं रखेंगे। इस्तीफा देनेवालों में जिला, उपजिला और शाखा प्रमुख भी शामिल हैं।

संघ ने सुभाष वेलिंगकर को गोवा प्रमुख के पद से हटा दिया था। उनपर संघ की विचारधारा के खिलाफ काम करने का आरोप लगा था। वेलिंगकर बीजेपी सरकार का विरोध करते हैं। वेलिंगकर को संघ की तरफ से भार मुक्त किये जाने के बाद पणजी के स्कूल कॉम्पलेक्स में स्वयंसेवकों की 6 घंटे तक बैठक चली। जिसके अंत में सामूहिक तौर पर इस्तीफा देने का फैसला लिया गया। बैठक में 100 से ज्यादा सदस्य और पदाधिकारी मौजूद थे। बैठक में संघ और बीजेपी के बड़े नेताओं पर ये आरोप लगाया गया कि उन्होंने वेलिंगकर को हटाने के लिए साजिश रची।

दरअसल वेलिंगकर राज्य सरकार की शिक्षा नीति को लेकर बीजेपी का विरोध कर रहे हैं। वेलिंगकर का कहना है कि राज्य सरकार ने शिक्षा के माध्यम के मामले में लोगों के साथ धोखा किया है। वेलिंगकर का दावा है कि सरकार कोंकणी और मराठी जैसी भाषाओं की जगह पर अंग्रेजी भाषा को बढ़ावा दे रही है। उन्होंने चेतावनी दी है कि इसी वजह से बीजेपी 2017 का चुनाव भी हारेगी। वेलिंगकर पर 20 अगस्त को गोवा आए बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह को काले झंडे दिखाने का भी आरोप है।

Loading...