nitish-kumar-bihar-chief-minister

बिहार में फिर छलकेगा जाम, पटना HC ने शराबबंदी कानून को किया रद्द !

बिहार में फिर छलकेगा जाम, पटना HC ने शराबबंदी कानून को किया रद्द !

पटना: बिहार में लागू शराबबंदी को पटना हाईकोर्ट ने रद्द कर दिया है। इस मामले पर सुनवाई करते हुए पटना हाईकोर्ट ने नीतीश सरकार की तरफ से लागू किये गए शराबबंदी कानून को गैरकानूनी बताते हुए रद्द कर दिया है। मामले की सुनवाई करते हुए हाईकोर्ट ने बिहार सरकार के शराबबंदी पर टिप्पणी भी की।

सीएम नीतीश कुमार ने विधानसभा चुनाव से पहले कहा था कि उनकी सरकार बनी तो बिहार में शराबबंदी को पूरी तरह से प्रतिबंधित किया जाएगा। महिला संगठनों की तरफ से भी बिहार में शराब पर प्रतिबंध की मांग की जा रही थी। महिलाओं की तरफ से की जा रही उन्हीं मांगों के आधार पर बिहार सरकार ने राज्य में शराबबंदी लागू की थी। जिसके तहत शराब रखने, पीने और बेचने पर पूरी तरह से प्रतिबंध लगाया गया था।

लेकिन नीतीश सरकार की इस शराबबंदी पर शुरु से ही सवाल उठ रहे थे। विपक्षी पार्टी सरकार के इस फैसले को गलत और तुगलकी फरमान बता रहे थे। बीजेपी ने इसे काला कानून बताया था। बीजेपी नेता की दलील थी कि कि वो शराबबंदी के खिलाफ नहीं हैं। लेकिन जिस तरह से इसे लागू किया गया है उससे इसका सबसे ज्यादा असर गरीब तबके पर पड़ेगा। सरकार के कानून के मुताबिक पुलिस जिसे चाहेगी जेल में डाल देगी।

बिहार के सीएम नीतीश कुमार ने विधानसभा में कहा था कि शराबबंदी का मतलब बिरनी के छत्ते में हाथ डालने जैसा है, इसमें कुछ भी हो सकता है। आशंका ये भी जताई गई थी कि शराबबंदी की वजह से उनकी हत्या भी हो सकती है। नीतीश कुमार ने कहा था कि शराबबंदी के मसले पर वो पीछे नहीं हटेंगे और बिहार को नशामुक्त राज्य बनाकर रहेंगे। लेकिन अब पटना हाईकोर्ट के फैसले के बाद बिहार सरकार बैकफुट पर है।

Loading...

Leave a Reply