Lockdown में छूट के झारखंड सरकार के गाइडलाइन पर सांसद निशिकांत दुबे ने उठाए सवाल

रांची/झारकंड:  झारखंड सरकार ने अनलॉक 01 को लेकर 1 जून को गाइडलाइन जारी कर दी। जिसमें लॉकडाउन 04 के अलावे भी कुछ दुकानों को खोलने की इजाजत दी गई है। लेकिन कपड़ा, श्रृंगार और चप्पल-जूते की दुकान को इस छूट से बाहर रखा गया है। जिसे लेकर अब गोड्डा के सांसद निशिकांत दुबे ने झारखंड की हेमंत सोरेन पर हमला किया है।

अपने फेसबुक वॉल पर निशिकांत दुबे ने झारखंड की हेमंत सोरेन सरकार से सवाल किया है कि दिल्ली, मुंबई जैसी जगहों पर सभी दुकानें खुल सकती हैं, झारकंड में क्यों नहीं? डूबने के डर से क्या तैरना छोड़ देना चाहिए? या एक्सीडेंट के डर से लोग गाड़ी चलाना या पैदल चलना छोड़ दें ? कोरोना से सावधान रहने की आवश्यकता है डरने की नहीं। भारत में प्रत्येक दिन 10 हजार लोगों की मौत अलग अलग कारणों से होती थी। अभी तक कोरोना से केवल लगभग 6 हजार लोगों की मृत्यु हुई है। आप समझदार हैं खुद सोचिये।

जो सवाल सांसद निशिकांत दुबे ने उठाए हैं वही सवाल कई व्यापारी भी कर रहे हैं। कि आखिर कपड़े और श्रृंगार की दुकान के खोलने से कोरोना बढ़ने का खतरा कैसे बढ़ जाता है। सवाल ये भी किये जा रहे हैं कि जब शराब की दुकान खोली गई इसके साथ ही कई गैर जरूरी चीजों की दुकानें खुल सकती हैं तो फिर कपड़े की दुकान को खोलने की इजाजत क्यों नहीं दी जा रही है।

झारखंड सरकार के इस गाइडलाइन को लेकर दुमका में व्यापारियों ने प्रदर्शन भी किया। प्रदर्शन कर रहे व्यापारियों ने मुख्य सड़क जाम कर दिया। उनकी मांग थी कि जिस तरह से बाकी दुकानें खुल रही हैं उसी तरह से कपड़ा दुकानों को भी खोलने की इजाजत दी जाए।

गोड्डा के भी जूता-कपड़ा व्यापारियों ने चैंबर ऑफ कॉमर्स की तरफ से इन दुकानों को खोलने की इजाजत देने की मांग सरकार से की है। इसमें कपड़ा व्यवसायी संजय साह, मनोज भारती, सचिन टेकरीवाल, बीरू टेकरीवाल, मनोज बजाज, देवाशीष बजाज, आयुष भगत, राजेश टेकरीवाल, राधे साह, मनिहारी व्यवसायी संदीप गाडिया, जूता दुकानदार मो. जावेद, मुनटुन समेत कई दुकानदारों ने सरकार से दुकान खोलने की इजाजत देने की मांग की है।

(Visited 110 times, 2 visits today)
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *