गोड्डा ECL खदान हादसा- कौन है मजदूरों की मौत का जिम्मेदार ?

गोड्डा/झारखंड: झारखंड के गोड्डा जिला में ललमटिया में कोयला खदान धंसने से कई मजदूरों की मौत हो गई। हादसा गुरुवार को रात तकरीबन 8 बजे के करीब हुआ। हादसे के बाद कई घंटों तक राहत और बचाव का काम शुरु नहीं हो सका। क्योंकि जिस महालक्ष्मी कंपनी वहां पर खुदाई का काम कर रही थी उसके पास इस तरह के हादसे से निपटने के लिए जरुरी इंतजान नहीं थे।

narendra-modi

ललमटिया में हुए हादसे पर पीएम नरेंद्र मोदी ने दुख जताया है। उन्होंने झारखंड के सीएम रघुवर दास को हर संभव मदद देने का भरोसा दिया है। पीएम ने ट्वीट कर कहा है कि झारखंड सरकार और मंत्री पीयूष गोयल खदान हादसे पर नजर बनाए हुए हैं। राहत और बचाव कार्य में एनडीआरएफ की टीम को लगाया गया है। पीएम ने एक दूसरे ट्वीट में लिखा है कि जो लोग खदान के भीतर फंसे हैं उनके सुरक्षित बाहर आने के लिए प्रार्थना करता हूं।

Newstrendindia ने महागामा के विधायक अशोक भगत से इस मामले पर बात की। जिसमें उन्होंने कहा हादसा वर्टिकल खुदाई की वजह से हुआ है। विधायक अशोक भगत ने कहा जिस राजमहल प्रोजेक्ट के तहत यहां खुदाई की जा रही है उसके पास जमीन की कमी है। ओपन माइंस में खुदाई का काम किया जा रहा है। वर्टिकल खुदाई की वजह से खदान की गहराई तकरीब 200 फीट तक पहुंच चुकी थी। जिसकी वजह से खदान में ये हादसा हुआ।

deepika-pandey-singh

कांग्रेस की जिला अध्यक्ष दीपिका पांडे सिंह ने ECL प्रबंधन पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए कहा कि हादसा गुरुवार रात को हुआ लेकिन अगले दिन यानि शुक्रवार सुबह तक राहत और बचाव का काम शुरु नहीं किया गया। जिसकी वजह से कई मजदूरों की मौत हुई। आखिर इसका जिम्मेदार कौन है। उन्होंने कहा ECL CMD इस बात की पूछताछ होनी चाहिए कि मजदूरों के बताने के बाद भी वो खामोश क्यों रहे। आखिर किसे बचाना चाहते हैं वो।

Loading...

Leave a Reply