नोटबंदी की वजह से गुजरात में 500 रुपये में ‘चाय-पानी वाला शादी’

सूरत/गुजरात: सूरत में शादी की तारीख तय हो चुकी थी। शादी के कार्ड बंट चुके थे। सारी तैयारियां भी हो चुकी थी। योजना धूम धाम से शादी करने की बनाई गई थी। लेकिन इसी बीच 8 नवंबर को खबर आई कि सरकार ने 500 और 1000 रुपये के नोट बंद कर दिये हैं। शादी की तैयारियां जब अपने अंतिम चरण में थी उस वक्त इस खबर ने वर और वधू दोनों पक्षों को हिला कर रख दिया।

सरकार फैसला ले चुकी थी। उसमें कुछ किया नहीं जा सकता था। अब जो कुछ करना था वो दोनों परिवारों को मिलकर अपनी समझबूझ से करना था। अचानक 500 और 1000 रुपये के नोट बंद होने की वजह से सारी तैयारियां बेमायने हो गई। वर पक्ष की चिंता ये थी कि बारात लेकर कैसे जाएं और वधू पक्ष की चिंता ये थी कि बारातियों का स्वागत कैसे करें। क्योंकि 500 और 1000 रुपये के नोट महज कागज बनकर रह गए हैं। वक्त इतना था नहीं कि कहीं से पैसे का इंतजाम कर सकें। क्योंकि सरकार के इस फैसले से रिश्तेदारों की हालत भी एक जैसी ही थी।

दूल्हा भरत भाई और दुल्हन दक्षा बेन के परिवारवालों ने इस शादी को ‘चाय-पानी वाला शादी’ का नाम दे दिया। दोनों परिवारों ने समझदारी दिखाई और ये तय किया गया कि बारातियों का स्वागत केवल चाय-पानी से किया जाएगा। गुजरात के सूरत शहर में हुई इस शादी में केवल 500 रुपये खर्च किये गए।

भरत भाई और दक्षा बेन की शादी हो गई। बेहद सादगी के साथ हुई इस शादी में किसी को किसी से कोई शिकायत नहीं हुई। वर पक्ष की तरफ से आए बाराती केवल चाय-पानी पीकर शादी में शरीक हुए तो वधू पक्ष के लोगों ने दिल खोलकर चाय-पानी बारातियों के सामने पेश किया। इस तरह से आपसी समझबूझ से जो शादी असंभव दिखाई दे रही थी वो संभव हुई और भरत और दक्षा पति-पत्नी बन गए।

Loading...

Leave a Reply