ये क्या! पहले गले मिले फिर मंच पर ही भिड़ गए चाचा-भतीजा

ये क्या! पहले गले मिले फिर मंच पर ही भिड़ गए चाचा-भतीजा

लखनऊ: समाजवादी पार्टी के दफ्तर में जब सभी ने अपनी-अपनी बात कह दी तो मुलायम सिंह ने चाचा-भतीजा को गले मिलवाने की कोशिश की। मुलायम सिंह ने अपने पुत्र सीएम अखिलेश से कहा अपने चाचा के गले लगो। दोनों गले तो मिल गए। लेकिन दिल में जो कड़वाहट थी वो दूर न हो सकी। गले मिलने के बाद वो कड़वाहट अचानक बाहर आ गई।

अखिलेश और शिवपाल के बीच मंच पर तीखी झड़प हुई। बात हाथापाई तक पहुंच गई। लेकिन बीच बचाव के बाद मामला शांत हुआ। माइक को लेकर भी चाचा और भतीजा में छीना झपटी हुई। शिवपाल ने अखिलेश के हाथ से माइक छीन लिया। इस बीच दोनों खेमे के नेता नारेबाजी करने लगे। जिसके बाद वहां मौजूद सुरक्षाकर्मियों ने नारेबाजी कर रहे नेताओं को बाहर निकाला।

नेताओं के बाहर निकलने के बाद मुलायम ने अखिलेश से कहा,मुझे एक चिट्ठी की जानकारी मिली है। जिससे पता चलता है कि तुम मुसलमानों के विरोधी हो। सीएम ने इस बात का खंडन करते हुए चिट्ठी दिखाने की मांग कर दी। जिसके बाद मुलायम ने आशु मलिक को मंच पर बुला लिया। आशु मलिक को मंच पर देखकर अखिलेश भड़क गए। प्रत्यक्षदर्शी बताते हैं कि अखिलेश ने आशु मलिक को धक्का दे दिया।

अखिलेश ने आशु मलिक की तरफ इशारा करते हुए कहा कि मैं इससे बात नहीं करुंगा। इसने एक लेख में मुझे औरंगजेब कहा था। उस लेख को छपवाने में अमर सिंह ने इसकी मदद की थी। इसके बाद शिवपाल अपने अमर प्रेम को छिपा न सके। शिवपाल ने अमर सिंह के समर्थन में बोलना शुरु कर दिया। शिवपाल पर आरोप लगाते हुए अखिलेश ने कहा ये साजिश करते हैं। इसके बाद सीएम अखिलेश यादव बैठक से बाहर निकल गए। जिसके बाद मुलायम ने कार्यकर्ताओं से कहा आपका सीएम झूठ बोलता है।

यानि कुल मिलाकर समाजवादी पार्टी की बैठक में सब कुछ हुआ। हंगामा हुआ, एक दूसरे पर आरोप लगाए गए, शब्दों की मर्यादा का स्तर नीचे गिरा, अपनी ही पार्टी के नेताओं के लिए दलाल, चोर, उपद्रवी इत्यादि इत्यादि जैसे शब्दों का इस्तेमाल किये गए। लेकिन जिस मकसद से इस बैठक को बुलाया गया था वो पूरा नहीं हुआ। चाचा-भतीजा के दिल जो कड़वाहट थी वो और कड़वी हो गई और दोनों के बीच की खाई और गहरी हो चुकी है।

सबसे बड़ी दिक्कत ये है कि जिनसे अखिलेश को दिक्कत है वो मुलायम को प्रिय हैं जिसमें शिवपाल और अमर सिंह हैं। और जो अखिलेश को प्रिय हैं उनसे मुलायम और शिवपाल को दिक्कत है। जिसमें रामगोपाल यादव समेत वो सपाई है जो अखिलेश का समर्थन करते हैं।

Loading...

Leave a Reply