अहम बैठक में 3 बार भावुक हुए PM, जनता से नोटबंदी पर मांगी राय

नई दिल्ली: नोटबंदी पर संसद में गतिरोध जारी है। विपक्ष सरकार पर हमलावर है। जब से संसद के सत्र की शुरुआत हुई है तब से लेकर अबतक सिवाय हंगामे और कार्यवाही स्थगन के कुछ हुआ नहीं है। विपक्ष के इस हमलावर तेवर से कैसे निपटा जाए इसपर रणनीति बनाने के लिए पीएम मोदी ने बीजेपी संसदीय दल की बैठक बुलाई थी।

pm-tweetबैठक में विपक्ष पर पलटवार की रणनीति बनाई गई। बैठक में बोलते हुए पीएम मोदी तीन बार भावुक हो गए। उन्होंने आरोप लगाया कि विपक्ष अफवाह फैला रहा है। प्रधानमंत्री ने अपने एप पर नोटबंदी पर जनता से राय मांगी है। पीएम मोदी ने सांसदों से कहा कि नोटबंदी को सर्जिकल स्ट्राइक न कहें। सर्जिकल स्ट्राइक केवल सैनिक ही कर सकते हैं। नोटबंदी आतंक, ड्रग्स और ब्लैक मनी के खिलाफ उठाया गया कदम है। पीएम मोदी ने सांसदों से जनता के बीच जाकर जानकारी देने की बात कही।

पीएम मोदी ने जनता से राय मांगते हुए सर्वे में शामिल होने का अनुरोध किया है। सांसदों की इसी बैठक में वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा कि विपक्ष का कहना है कि इस फैसले के बारे में वित्त मंत्री को भी पता नहीं था फिर वही लोग कहते हैं नोटबंदी के फैसले की पार्टी को पहले से ही खबर थी।

जेटली ने कहा सरकार सदन में चर्चा के लिए तैयार है। नोटबंदी से गरीबी मिटाने में मदद मिलेगी। विपक्ष पर आरोप लगाते हुए उन्होंने कहा विपक्ष केवल अफवाह फैला रहा है। इस पूरे ऑपरेशन को गोपनीय रखना जरुरी भी था और यह सबसे बड़ी चुनौती भी थी। गोपनीयता के लिए ही एटीएम को 8 नवंबर से पहले अपग्रेड नहीं किया गया। क्योंकि इससे गोपनीयता भंग हो सकती थी। सिवाय विपक्ष के पूरा देश इस फैसले के साथ है। इस फैसले के लिए बहुत हिम्मत की जरुरत थी।

वहीं कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा है कि पीएम हर जगह बोलते हैं लेकिन सदन में नहीं आते।

Loading...