शादी के लिए ढाई लाख निकालने से पहले RBI की नई गाइडलाइन पढ़ें, उड़ जाएंगे होश!

नई दिल्ली: नोटबंदी के बाद उन परिवारों को ज्यादा परेशानी हो रही है जिनके घर में शादी थी या आगे होनेवाली है। क्योंकि पुराने 500 और 1000 के नोट बंद हो चुके हैं। बैंकों से पैसे एक तय सीमा तक ही निकाल सकते हैं। उसमें भी दिक्कत ये है कि कई बैंकों को यही नहीं पता है कि शादी के कार्ड दिखाने पर उन्हें ढाई लाख तक बैंक अकाउंट से निकालने की इजाजत दी जा सकती है।

ये परेशानी चल ही रही थी उसी बीच अब RBI ने नई गाडलाइन जारी की है। जिसे पढ़ने के बाद वो लोग जिन्हें ये उम्मीद थी कि सरकार ने ढाई लाख तक निकालने की सीमा निर्धारित की है तो इससे उनकी दिक्कत काफी हद तक दूर हो जाएगी। क्योंकि RBI की नई गाइडलाइन में बैंक से ढाई लाख रुपये निकालने के लिए कई शर्तें रखी गई हैं। जो इस तरह से है

rbi-guidelineजिनके घर में शादी है वो 30 दिसंबर तक अपने अकाउंट से ढाई लाख रुपये निकाल सकते हैं। लेकिन शर्त ये है कि उनके अकाउंट में ये पैसा 8 नवंबर से पहले जमा हुए हों। साथ ही पैसा तभी निकाल पाएंगे जब शादी 30 दिसंबर या उससे पहले हो।
पैसा या तो दूल्हा-दुल्हन या फिर उनके माता पिता में से एक व्यक्ति ही निकाल पाएगा
वर-वधू पक्ष अलग अलग ढाई लाख रुपये निकाल सकते हैं
ये पुख्ता करना होगा कि जिन लोगों को पैसा दिया जाना है उनके बैंक अकाउंट नहीं हैं
प्रमाण के रुप में शादी का कार्ड, शादी से जुड़े खर्चों में एडवांस पेमेंट की रसीद भी देनी होगी
शादी के कार्ड के साथ वर वधू की पूरी जानकारी भी देनी होगी

RBI की नई गाइडलाइन से साफ है कि शादी वाले घरों के सामने राहत की बजाय एक नई आफत आ गई है वो भी चुपके से। अगर आपने शादी के खर्च के लिए पैसे जोड़ रखे थे और नोटबंदी के बाद उन पैसों को ये सोचकर बैंक में जमा करवा दिया था कि जरुरत होने पर नए नोट निकाल लेंगे तो अब ये मुमकिन नहीं है। क्योंकि शादी के लिए ढाई लाख रुपये तभी मिलेंगे जब आपने पैसा 8 नवंबर से पहले जमा करवाए हों।

RBI की इस नई गाइडलाइन का एक मतलब ये भी है कि मिठाईवाले, टैंटवाले, घोड़ेवाले, फूलवाले, नाई, धोबी इनलोगों को अगर आप कैश में पेमेंट करते हैं तो आपको भुगतान की रसीद के साथ साथ ये भी लिखवाकर लेना होगा कि इनके नाम से किसी बैंक में कोई अकाउंट नहीं है। अगर चंद शब्दों में RBI के इस गाइडलाइन को समझें तो शादी में होने वाले 1 रुपये से लेकर लाख तक के खर्चे का हर हिसाब बैंक को दिखाना होगा।

image-kejriwal-tweetRBI की इस गाइडलाइन पर दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट कर लिखा है ‘सालियों को जूता चुराई के रुपये देंगे तो सालियों की लिस्ट बैंक को दें और साबित करें कि सालियों का बैंक अकाउंट नहीं। सालियां सरीद देंगी’

Loading...