made-in-china

टेंशन में आया चीन क्योंकि घट रही है Made in China सामानों की डिमांड

टेंशन में आया चीन क्योंकि घट रही है Made in China सामानों की डिमांड

दिल्ली: मसूद अजहर और पाकिस्तान का हमदर्द बना चीन अब टेंशन में आ रहा है। क्योंकि उसपर आर्थिक मार पड़ रही है। भारत ही नहीं अमेरिका ने भी चीनी उत्पादों पर अपनी नीति बदली है। जिसकी वजह से चीनी सामानों के खरीदारों की तादाद घट रही है। लोगों को अब ये समझ में आने लगा है कि जिस चीनी सामान का इस्तेमाल वो करने जा रहे हैं वो चीन पाकिस्तान के साथ खड़ा है न की भारत के समर्थन में।

चीनी मीडिया ने अपनी सरकार को सलाह देते हुए कहा है कि भारत और अमेरिका चीनी सामानों के आयात पर नियंत्रण लगा रहे हैं। एंटी डंपिंग ड्यूटी लगाकर चीनी सामान के आयात पर रोक लगाने की कोशिश भी हो रही है। अखबर ग्लोबल टाइम्स के मुताबिक भारत अमेरिका की आर्थिक नीतियों ने प्रतियोगिता बढ़ा दी है। जिसका असर चीनी कारोबार पर पड़ा है।

अखबार में लिखा गया है कि भारत और अमेरिका ने चीनी उत्पादों पर सबसे ज्यादा जांच बिठाई है। इस हालत में चीनी अधिकारियों को नई दिल्ली और वाशिंगटन पर दबाव बनाना चाहिए। ग्लोबल टाइम्स के मुताबिक चीन दुनिया में सबसे बड़ा निर्यातक है जबकि भारत और अमेरिका सबसे बड़े साझीदार।

हाल के दिनों में चीन ने अंतरराष्ट्रीय मंच पर जिस तरह का रुख दिखाया है वो भारत के हित में नहीं है। चाहे वो एनएसजी में भारत की सदस्यता का मुद्दा हो, मसूद अजहर पर संयुक्त राष्ट्र संघ में प्रतिबंध का मुद्दा हो या फिर पाकिस्तान के आतंकवाद का मुद्दा। हर जगह चीन भारत के रास्ते में रुकावट बना है।

हाल में एक बार फिर से चीन ने मसूद अजहर पर प्रतिबंध का विरोध किया। चीन ही एक मात्र ऐसा देश है जो नहीं चाहता कि एनएसजी में भारत को एंट्री मिले। सर्जिकल स्ट्राइक पर चीन भारत की बजाय पाकिस्तान का समर्थन कर रहा है। भारत के लोगों के जनमानस पर भी इसका असर पड़ रहा है। नतीजा ये हो रहा है कि चीनी सामानों की बिक्री कम हो रही है। इससे उन व्यापारियों को फायदा हो रहा है जो देश में बने सामानों को बेचते हैं।

Loading...

Leave a Reply