ट्रिपल तलाक असंवैधानिक, इससे मुस्लिम महिलाओं के अधिकारों का हनन होता है-इलाहाबाद HC

नई दिल्ली: इलाहाबाद हाईकोर्ट ने ट्रिपल तलाक पर ऐतिहासिक फैसला दिया है। हाईकोर्ट ने कहा है कि ट्रिपल तलाक असंवैधानिक है और इससे मुस्लिम महिलाओं के अधिकारों का हनन होता है। पर्सनल लॉ बोर्ड पर टिप्पणी करते हुए कोर्ट ने कहा कि कोई भी पर्सनल लॉ बोर्ड संविधान से ऊपर नहीं है। हाईकोर्ट ने ट्रिपल तलाक पर दो मुस्लिम महिलाओं की तरफ से दाखिल याचिका पर सुनवाई के दौरान ये टिप्पणी की है।

हाईकोर्ट ने कहा मुस्लिम महिलाओं को तीन तलाक देना क्रूरता की श्रेणी में आता है। यहां तक कि पवित्र कुरान में भी तीन तलाक को अच्छा नहीं माना गया है। अदालत ने साफ कहा कि मुस्लिम समाज का एक वर्ग इस्लामिक कानून की गलत व्याख्या कर रहा है। दो अलग अलग याचिकाओं पर सुनवाई करते हुए सिंगल बेंच ने ये फैसला सुनाया है।

केंद्रीय मंत्री वेंकैया नायडू ने इलाहाबाद हाईकोर्ट के फैसले का स्वागत किया है। उन्होंने कहा मजहब के नाम पर महिलाओं के साथ भेदभाव नहीं होना चाहिए। दरअसल ट्रिपल तलाक पर सरकार और मुस्लिम संगठन आमने सामने हैं। केंद्र सरकार ने ट्रिपल तलाक का विरोध किया था लेकिन मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने सरकार के इस विरोध को धार्मिक मामलों में दखल करार दिया था। लेकिन अब हाईकोर्ट के फैसले के बाद केंद्र सरकार की उस कोशिश को मजबूत आधार मिला है।

Loading...