अभी नहीं घटेगी आपकी EMI, रेपो रेट 6.25% पर बरकरार

नई दिल्ली: नोटबंदी के बाद अगर आप ये उम्मीद लगाए बैठे थे कि आपकी EMI कम हो जाएगी तो अभी आपको और इंतजार करना पड़ेगा। क्योंकि नोटबंदी के बाद आरबीआई ने अपनी पहली मौद्रिक नीति का एलान किया है। जिसमें रेपो रेट और सीआरआर में कोई कमी नहीं की गई है। रेपो रेट पहले के 6.25 फीसदी और सीआरआर अपने पुराने 4 फीसदी पर ही बरकरार है। अबतक ये उम्मीद की जा रही थी कि नोटबंदी के बाद ब्याज की दरें घटेगी लेकिन ऐसा हुआ नहीं।

आरबीआई ने अपनी मौद्रिक नीति में आर्थिक विकास दर का अनुमान घटा दिया है। पहले वित्तीय वर्ष 2016-17 के लिए आर्थिक विकास दर 7.6 फीसदी रहने का अनुमान जताया गया था लेकिन अब उसे घटाकर 7.1 फीसदी कर दिया गया है। इसका मतलब ये है कि अर्थव्यवस्था पर नोटबंदी का नकारात्मक असर पड़ने का अंदेशा है।

आरबीआई गवर्नर उर्जित पटेल ने कहा नोटबंदी से होनेवाली दिक्कतों का अंदाजा सरकार और आरबीआई को था। लेकिन फैसला लेने में कोई जल्दबाजी नहीं की गई। उन्होंने कहा अबतक 11.55 लाख करोड़ के पुराने नोट बैंक में वापस आ चुके हैं। 4 लाख करोड़ के नए नोट छापकर लोगों को दिये गए हैं। एटीएम या बैंकों से पैसा निकालने की सीमा बढ़ाने के बारे में अभी कोई फैसला नहीं लिया गया है। पहले इसकी समीक्षा की जाएगी उसके बाद कोई फैसला लिया जाएगा।

Loading...