शादी में 5 लाख से ज्यादा खर्च करने पर लगेगी रोक, मेहमानों की संख्या भी तय होगी?




नई दिल्ली:  अगर शादी में खर्च की सीमा से जुड़े इस प्रस्ताव को मंजूरी मिल जाती है तो शादी में मनमाना खर्च करने पर रोक लग सकती है। यही नहीं शादी जैसे समारोह में आप कितने मेहमानों को बुलाएं और कितान खाना बनाए इसकी मात्रा तय करने की मांग इस प्रस्ताव में की गई है। कांग्रेस सांसद रंजीता रंजन की तरफ लोकसभा में एक प्राइवेट मेंबर बिल लाया गया है। जिसमें ये मांग की गई है। उम्मीद की जा रही है कि 9 मार्च से शुरु होनेवाले बजट सत्र के दूसरे हिस्से में इसपर चर्चा हो सकती है।

इस प्रस्ताव के पास होने के बाद उन सबों पर असर पड़ेगा जो शादी जैसे समारोह में बेतहाशा खर्च करते हैं। और जो सैंकड़ो मेहमानों को आमंत्रित करते हैं। यही नहीं इस प्रस्ताव के पास होने के बाद ये भी तय किया जाएगा कि कितने मेहमानों के लिए आपको कितना खाना तैयार करवाना है। ताकि खाने की बर्बादी नहीं हो। इस प्रस्ताव के पीछे रंजीता रंजन ने कहा कि शादी दिखावे का समारोह बनता जा रहा है। और इसका बुरा असर गरीब तबके पर पड़ रहा है। जो समाज के लिए अच्छा संदेश नहीं है।

रंजीता रंजन ने आगे कहा अगर कोई 5 लाख से ज्यादा खर्च करना चाहता है तो उसके लिए भी प्रस्ताव में गुजाइश रखी गई है। 5 लाख से ज्यादा खर्च करनेवालों के लिए ये शर्त लगाने की मांग की गई है कि लोग 5 लाख से जितानी ज्यादा रकम खर्च करेंगे उसका 10 फीसदी हिस्सा सामाजिक कार्यों को लिए दें। जिसे सरकार उन गरीब परिवारों में शादियां कराए जो गरीबी रेखा से नीचे रहते हैं।

इस बिल का नाम ‘The Marriages (Compulsory Registrationand Prevention of Wastfull Expenditure) Bill’ है। उम्मीद की जा रही है कि 9 मार्च से शुरु होनेवाले संसद सत्र में इसे लोकसभा में लाया जा सकता है। रंजीता रंजन ने कहा शादी दो लोगों के बीच एक नए संबंध की शुरुआत का नाम है। लेकिन आज की तारीख में शादी केवल एक रश्म न होकर दिखावा बनता जा रहा है। लोग शादी में ज्यादा खर्च करना अपनी शान समझने लगे हैं। इस तरह की प्रथा समाज के लिए हितकर नहीं है।

उन्होंने कहा अगर ये प्रस्ताव पास हो जाता है तो इसके बाद ये भी जरुरी हो जाएगा कि शादी के बाद 60 दिन के अंदर उसे रजिस्टर कराया जाए। उन्होंने कहा कि सरकार को शादी में मेहमानों के आने की अधिकतम सीमा भी तय करनी चाहिए। साथ ही ये भी तय किया जाना चाहिए कि उतने मेहमानों के हिसाब से कितना खाना तैयार किया जाना चाहिए। इससे खाने की बर्बादी नहीं होगी।

Loading...

Leave a Reply