NASIMUDDIN SIDDIKI

मायावती ने कहा दाढ़ी वाले मुसलमान कुत्ते होते हैं-नसीमुद्दीन सिद्दीकी

मायावती ने कहा दाढ़ी वाले मुसलमान कुत्ते होते हैं-नसीमुद्दीन सिद्दीकी

बीएसपी से निकाले जाने के बाद नसीमुद्दीन सिद्दीकी ने मायावती पर कई गंभीर आरोप लगाए हैं। उन्होंने कहा कि बहन जी ने मेरी कुर्बानी याद नहीं रखी। उन्होंने कहा विधानसभा चुनाव के नतीजे आने के बाद मायावती ने  मुझे बुलाया। मैं अपने बेटे के साथ दिल्ली पहुंचा। वहां मायावती ने मुझसे पूछा मुसलमानों ने बीएसपी को वोट नहीं दिया। नसीमुद्दीन सिद्दीकी ने कहा दाढ़ी वाले मुसलमान कुत्ते होते हैं। मुझसे केवल मिलने आते थे।लेकिन उन्होंने वोट नहीं दिये।

 

नसीमुद्दीन की मुख्य बातें

चुनाव के बाद मायावती ने मुझसे पूछा

मुसलमानों ने बीएसपी को वोट क्यों नहीं दिया

गठबंधन से पहले मुसलमान हमारे साथ था

सपा-कांग्रेस गठबंधन के बाद मुसलमान बंट गया

19 अप्रैल के यूपी बीएसपी के कार्यालय में उन्होंने मुझसे कही

वो बोलीं मैं सहमत नहीं हूं, हमने भी सपा, कांग्रेस से गठबंधन किया हमें मुसलमान वोट नहीं मिला इसलिए आप गलत बोल रहे हो

उन्होंने कहा मुसलमान गद्दार है, उन्होंने कहा दाढ़ी वाले मुसलमान को कुत्ता कहा

मायावती बोली मैं आपके खिलाफ एक्शन लूंगी।

1991 से बीएसपी से जुड़े थे सिद्दीकी

सभी जातियों के लिए बुरा भला कहना शुरु कर दिया

कांशीराम को मायावती ने नीचा दिखाने की कोशिश की

2002 में यूपी पंजाब में विधानसभा चुनाव एकसाथ हो रहा था तो कांशीराम सारा पैसा लेकर पंजाब चले गए. और मुझसे कहा यूपी मेरे हवाले। पंजाब में वो खाता नहीं खोल पाए। फिर मैंने कांशीराम को पीछे धकेलने का काम किया।

आप लोगों से मिलना पसंद नहीं करतीं

विधानसभा चुनाव में केवल 55 जनसभाएं लगाईं दूसरी पार्टी ने 200-250 सभाएं की

मंच से कभी किसी प्रत्याशी के लिए वोट नहीं मांगा

सतीश चंद्र मिश्रा और दामाद की तलाशी नहीं ली जाती और हमारी तलाशी ली जाती है। तलाशी सभी की होनी चाहिए।

मायावती ने मुझसे 50 करोड़ रुपये की मांग की पार्टी के लिए मुझे इंतजाम करने के लिए कहा

बोलीं अपनी प्रॉपर्टी बेच दो। प्रॉपर्टी बेच भी दूंगा तो भी 50 करोड़ का चौथाई भी हो जाए तो काफी होगा, मुझसे कहा अपने रिश्तेदारों को बुलाओ, बच्चों बीबी तुम्हारे तभी होगे जब तुम आगे बढ़ोगे

मैं प्रॉपर्टी बेचने के लिए भी तैयार हो गया

1996 में मेरी बेटी बीमार थी, मुझे नहीं जाने दिया मुझे चुनाव के काम में लगा रखा था। दूसरे दिन मेरी बेटी मर गई, पत्नी ने कहा अब तो आ जाओ। बहन जी ने मुझे नहीं जाने दिया। मैं नहीं गया मैंने भाई को कहा मैं नहीं आऊंगा दफना दो। मैं आपके सारे केस अपने ऊपर लेते रहा।

सतीश चंद्र मिश्रा एंड कंपनी पार्टी बर्बाद करना चाहते हैं

मेरे अवैध बूचड़खाने की बात कही गयी पहले मिश्रा जी एक का तो नाम बता दें

मुझे पता था एक दिन मुझे पार्टी से निकाला जाएगा

मेरी संपत्ति बेनामी बता दी मुझे बिना बताए आरोप लगा दिये

ताज कॉरीडोर के मामले में सीबीआई ने लिखा नसीमुद्दीन की प्रॉपर्टी में कोई गड़बड़ी नहीं है जबकि मायावती में पाई गई

मायावती और सतीश चंद्र मिश्रा ने लोकायुक्त की जांच करवा दी। विजिलेंस को आय से कम संपत्ति मिली। ईडी, विजिलेंस ने मेरे खिलाफ जांच खत्म किया।

मायावती के कई गिरोह हैं जिनमें एक अपराधियों का गिरोह है

ये गिरोह विरोध में बोलनेवाले पर हमला करते हैं

मायावती के राज खोल दूंगा तो भूचाल आ जाएगा

मायावती मेरे ऊपर भी हमला करवा सकती है, मेरी हत्या भी करवा सकती है, मेरी पत्नी को पिटवा सकती है

 

Loading...

Leave a Reply