narender-modi-at-bhopal

भोपाल में PM मोदी ने सर्जिकल स्ट्राइक पर वो कहा जिसे देश सुनना चाहता था

भोपाल में PM मोदी ने सर्जिकल स्ट्राइक पर वो कहा जिसे देश सुनना चाहता था

भोपाल: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भोपाल पहुंचे थे शौर्य स्मारक का उद्घाटन करने। पीएम मोदी ने अपने भाषण के शुरुआत में ये बताया कि सेना क्या है। ये बताना इसलिए जरुरी था क्योंकि ज्यादातर लोगों के लिए सेना का मतलब सरहद पर तैनात वो सैनिक होते हैं जो दुश्मनों से मुकाबला करते हैं। लेकिन सेना की एक भूमिका आपदा में भी होती है।

भोपाल में उसी भाषण में पीएम मोदी ने इशारों में सर्जिकल स्ट्राइक का भी जिक्र किया। पीएम ने कहा सेना बोलती नहीं है पराक्रम करती है। अपनी इस टिप्पणी में मोदी ने रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर को भी शामिल कर लिया। पीएम मोदी ने कहा जैसे सेना बोलती नहीं पराक्रम करती है उसी तरह से हमारे रक्षा मंत्री भी बोलते नहीं हैं।

आगे पीएम मोदी ने मानवीय त्रासदियों के दौरान भारतीय सेना के प्रयासों में पाकिस्तान का भी जिक्र किया। पीएम ने यमन में फंसे भारतीय लोगों को निकालने के लिए चलाए गए ऑपरेशन का जिक्र करते हुए कहा ‘सेना ने पराक्रम दिखाया और पांच हजार से ज्यादा भारतीयों को सुरक्षित बाहर निकाल लाए। उन्होंने कहा सेना ने न केवल अपने देश के लोगों को निकाला बल्कि दुनिया के दूसरे देशों, पाकिस्तान के लोगों को भी निकाल लाए।‘

प्राकृतिक आपदाओं के दौरान सेना की भूमिका की सराहना करते हुए पीएम मोदी ने कहा ‘जब हम सेना का स्मरण करते हैं तो यूनिफॉर्म, हथियार, युद्ध, शत्रु ये सारी चीजें ही याद आती हैं।‘ पीएम यह भी कहा ‘कभी कभी यह भी सोचें कि भारत का सैन्य बल मानवता की भी एक बड़ी मिसाल है। बदरीनाथ हो, केदारनाथ हो, कहीं पर भी प्राकृतिक संकट आया हो लोगों को बचाने में सेना ने अपनी जान की बाजी लगा दी।‘

कश्मीर में आई भीषण बाढ़ का भी जिक्र प्रधानमंत्री ने किया। उन्होंने कहा ‘दो साल पहले श्रीनगर में जब बाढ़ आई पहली बार श्रीनगर ने इतनी भयंकर बाढ़ देखी। सरकार के लिए भी कठिन था जूझना। तब हमारे सेना का जवान श्रीनगर की वादियों में बाढ़ पीड़ित लोगों की मदद के लिए खुद को खपा रहे थे। मेरी सेना का प्रशिक्षण देखिये, मेरी सेना की मानवता देखिये सेना ने कभी नहीं सोचा कि ये वो लोग हैं जो हमपर पत्थर मारते हैं,आंखें फोड़ देते हैं। यही मानवता है। कल क्या हुआ था इसे भूल सेना जीवन को जीजान से बचाने में जुटी रही।‘

पीएम ने कहा ‘हो सकता है दुनिया के कुछ देशों की सैन्य शक्ति हमसे ज्यादा हो। पर अलग अलग मानकों जैसे डिसिप्लिन, मानवों से व्यवहार इन सभी मानकों पर सेना पहली पंक्ति में नजर आती है। हमारा हजारों साल का इतिहास है। हमारे पूर्वजों ने किसी की एक इंच जमीन के लिए झगड़ा नहीं किया है। किसी देश को अपना बनाने के लिए आक्रमण नहीं किया है लेकिन मूल्यों की रक्षा के लिए अगर जीवन का जंग खेलने की बारी आई तो हिंदुस्तान की सेना पीछे नहीं हटेगी।‘

पीएम ने कहा ‘मैंने बोला था सेना बोलती नहीं पराक्रम करती है उस समय मेरे बाल नोच दिये जाते थे कि मोदी सो रहा है, मोदी कुछ नहीं कर रहा। जैसे हमारी सेना बोलती नहीं पराक्रम करती है वैसे ही हमारे रक्षा मंत्री भी बोलते नहीं हैं।‘

Loading...

Leave a Reply