इसबार मोदी ने देश को पिलाई है कड़क चाय, गरीबों को आती है पसंद

गाजीपुर/यूपी: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गाजीपुर से कोलकाता के लिए शब्दभेदी ट्रेन को हरीझंडी दिखाई और विरोधियों पर शब्दों का प्रहार शुरु कर दिया। पीएम ने अपने भाषण में पूर्व पीएम इंदिरा गांधी से लेकर यूपी की पूर्व सीएम मायावती का जिक्र किया। नोटबंदी पर सवाल उठानेवालों पर पीएम ने अपने शब्दों से हमला किया तो वहीं नोटबंदी की वजह से परेशान हो रही जनता को ये दिलासा भी दिया कि उनकी परेशानी की पीड़ा उन्हें भी है।

पीएम मोदी ने कहा आज गरीब चैन की नींद सो रहा है और अमीर नींद की गोली खरीद रहा है। पीएम मोदी ने देश के पहले प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरु का जिक्र करते हुए कहा कि उनके सामने गाजीपुर के सांसद विश्वनाथ ने 1962 में यहां के हालात के बारे में बताया था। तब नेहरु ने पटेल कमेटी बनाई थी। नेहरु चले गए कमेटी रह गई। पंडितजी के जन्मदिन पर उनका अधूरा काम करने आया हूं।

पीएम ने कहा धन की कमी नहीं है लेकिन जहां धन होना चाहिए वहां नहीं है। आपने मुझे भ्रष्टाचार से लड़ने के लिए पीएम बनाया। बेइमानों के पास कोई चारा नहीं है। मैं जानता हूं कि नोटबंदी से आपको तकलीफ हो रही है। मायावती पर हमला बोलते हुए पीएम मोदी ने कहा नोटों की मालाओं से मुंडी भी नहीं दिखती थी।

पीएम ने इंदिरा गांधी की तरफ से लगाए गए आपातकाल का भी जिक्र किया। उन्होंने कांग्रेस पर हमला बोलते हुए कहा आपने आपातकाल लगाकर देश को जेलखाना बना दिया था। 19 महीनों तक कांग्रेस ने लोगों को जेल में भरा। पुलिस लोगों को जेल में डालने की धमकी देती थी। आपातकाल लगानेवाले लोगों की तकलीफ की बात कर रहे हैं।

पीएम ने कहा मैंने कड़क चाय बनाई है। गरीबों को कड़क चाय पसंद होती है, अमीर को नहीं। पीएम मोदी ने कांग्रेस पर हमला करते हुए कहा आपने चवन्नी बंद की थी। आपने अपनी बराबरी का काम किया था, मैंने अपनी बराबरी का काम किया।

नकली नोटों पर मोदी ने कहा नोटबंदी कालाधन, आतंकवाद, उग्रवाद और नक्सलवाद से लड़ने के लिए है। 500 और 1000 के नोट बंद होने से जाली नोटों का जाल बंद हो गया। इसके बिना जाली नोटों पर रोक नहीं लग पाती। सीमापार से नकली नोटों का जाल चलता था।

Loading...