mulayam-singh

मुलायम का 2019 में गठबंधन से इनकार लेकिन अखिलेश चाहते हैं गठबंधन हो

मुलायम का 2019 में गठबंधन से इनकार लेकिन अखिलेश चाहते हैं गठबंधन हो

लखनऊ:  2019 के लोकसभा चुनाव को लेकर बीजेपी की तैयारी बाकी दलों से काफी आगे दिखाई दे रही है। बीजेपी की उसी तैयारी से घबराकर दूसरे दल गठबंधन के रास्ते पर चल पड़े हैं। सबसे हैरानी तब हुई थी जब बीएसपी सुप्रीमो मायावती ने कहा था वो किसी भी दल से गठबंधन के लिए तैयार हैं। इसके जवाब में अखिलेश ने भी गठबंधन के लिए अपनी रजामंदी दे दी थी। लेकिन उसके ठीक एक दिन बात अखिलेश के पिता मुलायम सिंह यादव ने कहा समाजवादी पार्टी को गठबंधन की कोई जरुरत नहीं है। वो अपने दम पर चुनाव लड़ेगी।

मुलायम के इस बयान ने गठबंधन की उस कमीं को सामने ला दिया है जिसकी वजह से वो बीजेपी के सामने टिक नहीं पाती हैं। इससे पहले भी थर्ड फ्रंट के नाम से यूपीए और एनडीए के खिलाफ गठबंधन तैयार हुआ था। लेकिन जब लड़ाई की बारी आई तो इनकी आपस में ही लड़ाई हो गई और गठबंधन केवल कागजों और बैठकों तक ही सिमट गया।

akhilesh-yadav-and-mayawati

इसबार भी गठबंधन की तैयारी के सामने आने के बाद से ही अलग अलग दलों और एक दल के अलग अलग नेताओं के बीच तालमेल की कमीं दिखाई देने लगी है। अखिलेश यादव कुछ कह रहे हैं और उसी पार्टी के एक मार्गदर्शक मुलायम सिंह यादव कुछ और बयान दे रहे हैं जो अखिलेश के गठबंधन वाले सोच से बिल्कुल विपरीत है।

ये भी पढें :

– 2019 में मोदी से मुकाबला करने यूपी में बुआ और भतीजा करेंगे गठबंधन!
– तीन तलाक पर पीएम का सीधा संदेश ‘मुस्लिम महिलाएं दिक्कत में हैं’

दरअसल मायावती ने पिछले दिनों कहा था कि अपने देश में लोकतंत्र को बचने के लिए और ईवीएम की गड़बड़ी के विरुद्ध किये जा रहे संघर्ष में यदि बीजेपी विरोधी पार्टियां भी हमारे साथ आना चाहेंगी तो उनके साथ भी हमें हाथ मिलाने से परहेज नहीं होगा।

इसके जवाब में अखिलेश यादव ने कहा था हम तो हर एक का स्वागत करनेवाले लोग हैं। हमने पहले भी स्वागत किया था। तब भी बहुत बड़ी खबर निकली थी। जब परिणाम उस समय नहीं आया था। हम तो अब भी तैयार हैं। 2019 के लोकसभा चुनाव के लिए यूपी काफी अहम है। क्यों कि इस प्रदेश में लोकसभा की सबसे ज्यादा 80 सीटें हैं।

Loading...

Leave a Reply