MP में किसान खुदकुशी कर रहे हैं और शिवराज के मंत्री ट्यूबलाइट का टिकट बेच रहे हैं

नई दिल्ली:  मध्य प्रदेश में किसान कहीं कर्ज से परेशान हैं तो कहीं प्याज की फसल का खरीदार ढूंढ रहे हैं। लेकिन इन सब के बीच मध्यप्रदेश सरकार ये एहसास करा रही है कि सीएम के 28 घंटे के उपवास के बाद राज्य में सबकुछ सामान्य हो गया है। किसी को कोई दिक्कत नहीं है। किसान खुश हैं, उनके फसलों की खरीद की जा रही है, सरकार भी चैन से शासन का काम देख रहे हैं और सरकार के मंत्री सिनेमा घर में सलमान की फिल्म ट्यूबलाइट का टिकट बेच रहे हैं।

बात जरा हैरान करने वाली है। आप यहां पर ये सवाल पूछ सकते हैं कि मध्य प्रदेश में इतना सबकुछ कब हुआ। क्योंकि किसान तो अभी भी सड़कों पर बैठे हैं और इंतजार कर रहे हैं अपने प्याज के खरीदार का। क्योंकि सरकार की तरफ से अभी तक ही जितना प्याज खरीदा गया है उसे ही रखनी की जगह नहीं है तो और प्याज कहां खरीदेगी। लेकिन इस सब से बेखबर शिवराज के मंत्री सिनेमा घर में टिकट बेच रहे हैं।

इनका नाम है गोपाल भार्गव। भार्गव मध्य प्रदेश सरकार में पंचायती राज मंत्री हैं। किसानों की समस्या सुनने और उन्हें सुलझाने की जिम्मेदारी इनके ऊपर भी है लेकिन मंत्री गोपाल भार्गव को किसानों के हित से ज्यादा फिल्म ट्यूबलाइट की फिक्र है। सिनेमा हॉल का कोई शो खाली न चला जाए इसलिए वो टिकट काउंटर पर खुद टिकट बेच रहे हैं।

जिस सिनेमा हॉल का टिकट भार्गव बेच रहे हैं वो उन्हीं का है। और उनके विधायक बनने से पहले से ये सिनेमा हॉल है। मंत्री खुद टिकट काउंटर पर बैठे थे तो उनके चेले टाइप के अरदली उनके सेहत का खयाल रख रहे थे। जब उनसे टिकट बेचने पर सवाल किया गया तो उन्होंने कहा ये काम तो वो 1978 से कर रहे हैं।

बात हैरान करने वाली है कि जिस वक्त मंत्री गोपाल भार्गव सिनेमा हॉल में फिल्म का टिकट बेच रहे थे उसी वक्त छतरपुर जिले में दो किसानों ने खुदकुशी कर ली थी। इस गांव की दूरी कुछ खास नहीं है। मंत्री जी के सिनेमा घर से छतरपुर के उस गांव की दूरी महज 55 किलोमीटर के करीब है। लेकिन यहां किसानों की फिक्र किसे है। यहां तो ट्यूबलाइट के शो को हाउस फुल करने का है।

Loading...

Leave a Reply