केवल संदीप कुमार ही नहीं AAP के दूसरे बड़े नेता भी करते हैं यौन उत्पीड़न ?

दिल्ली: सुल्तानपुर माजरा से विधायक संदीप कुमार के सीडी और संभोग की कथा से हर कोई हैरान है। आम आदमी पार्टी की हालत कुछ इस कदर है कि उसके नेता संदीप कुमार का नाम लेने से भी बचना चाहते हैं। सिवाय एक नेता के। क्योंकि जिस संदीप कुमार को पूरी पार्टी गलत मान रही है उसी संदीप कुमार को आशुतोष ने अपना आदर्श बना लिया।

अब बिजवासन से आम आदमी पार्टी के ही एक विधायक ने सीएम अरविंद केजरीवाल को एक चिट्टी लिखी है। जिसमें उन्होंने कहा है कि पार्टी के कई वरिष्ठ नेताओं के द्वारा महिलाओं का शोषण किये जाने की बात सुनने को मिली है। हलांकी उन्होंने ये भी कहा है कि इस बात की पुष्टि के लिए उनके पास कोई सबूत नहीं है।

सीएम अरविंद केजरीवाल को लिखी चिट्टी में सहरावत ने कहा है ‘मैंने पंजाब में चुनावी टिकट देने के वादे पर महिलाओं का शोषण किये जाने की परेशान करनेवाली खबरें देखी है। मैं चंडीगढ़ में लोगों से मिल रहा हूं। दिल्ली के विधायकों को पंजाब में पार्टी के वरिष्ठ सदस्यों द्वारा की जानेवाली इन हरकतों के बारे में कोई जानकारी नहीं है। एक अन्य वरिष्ठ पार्टी सदस्य दिल्ली में भी ऐसा ही कर रहे हैं। लड़कियों के साथ उनकी तस्वीरें नियमित तौर पर आती रहती हैं। स्थिति शर्मनाक होती जा रही है। आशुतोष द्वारा दिये गए तर्क स्वीकृत मापदंडों के मुताबिक नहीं हैं।‘

सेहरावत ने अपनी बात एक चिट्ठी के जरिये बयां कर दी। AAP नेता आशुतोष ने जब महात्मा गांधी और जवाहर लाल नेहरु को रेप के आरोप विधायक संदीप कुमार के समकक्ष लाकर खड़ा कर दिया था उस वक्त भी सेहरावत ने कड़े शब्दों में आशुतोष की इस सोच और उनके ब्लॉग पर प्रतिक्रिया दी थी। लेकिन इसबार जो चिट्टी सेहरावत ने लिखी है उसपर AAP का कहना है कि ये गुस्से में लिखी गई बातें हैं। एक तरह से पार्टी ने सेहरावत के शक को खारिज कर दिया है। AAP नेता दिलीप पांडे ने कहा सेहरावत के पास अपने दावों की पुष्टि के लिए कोई सबूत नहीं है। एक विधायक के तौर पर वह जानते हैं कि पार्टी के अंदर किस मंच पर अपनी चिंताओं को सामने रखा जा सकता है।

अभी तो पार्टी सेहरावत के आरोपों को खारिज कर रही है। लेकिन कहीं ऐसा न हो की पार्टी शिकायतों के सही मंच पर पहुंचने का इंतजार करती रहे है मैदान में संदीप कुमार जैसा कोई दूसरा स्कैंडल हो जाए। विरोधी सवाल पूछने लगें और AAP की सुचिता पर प्रश्नचिन्ह लग जाए।

Loading...

Leave a Reply