नोटबंदी के बाद अब मोदी सरकार खर्च में करेगी कटौती, जानिये कहां-कहां होगा असर




नई दिल्ली: मोदी सरकार एक और बड़ी शुरुआत करने जा रही है। इसबार सरकार नोटबंदी के बाद बने हालात पर गौर करते हुए अब सरकारी खर्च में कटौती करने जा रही है। ताकि देश की अर्थव्यवस्था को जल्द पटरी पर लाया जा सके। इसके लिए जरुरी है कि सरकारी खजाने में भरपूर मात्रा में कैश कायम रहे।

सरकार खर्च में कटौती के लिए मॉडर्न मैनेजमेंट के तरीके अपनाएगी। वित्त सचिव अशोक लवासा के मुताबिक मार्च से पहले ही सरकार खर्च के तरीकों में बड़ा बदलाव लाने जा रही है। वित्त मंत्रालय के सूत्रों के मुताबिक सरकारी अधिकारियों के विदेश दौरों में कटौती की जाएगी। देश के भीतर होनेवाले आधिकारिक दौरों को खत्म किया जाएगा। इसके जगह वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग को बढ़ावा दिया जाएगा।

हर विभाग में मैनपावर की भी समीक्षा की जाएगी। अगर किसी विभाग में मैनपावर कम है तो नई भर्ती की जगह ज्यादा मैनपावर वाले विभाग से मैनपावर वहां भेजा जाएगा। मैनपावर की कमी को पूरा करने के लिए आउटसोर्सिंग की भी मदद ली जा सकती है। सरकारी विभाग में कॉन्ट्रैक्ट पर काम करनेवालों को पर्मानेंट करने की योजना को फिलहाल टाल दिया जाएगा।

वित्तीय घाटे को 3.2 फीसदी पर रखा जाएगा। इस बात की पूरी कोशिश की जाएगी कि वित्तीय घाटा इससे ज्यादा न हो। धीरे-धीरे इसे 3 फीसदी पर लाने की कोशिश की जाएगी। सरकार ने सरकार खर्च के लिए 21.41 लाख करोड़ रुपये की राशि को मंजूरी दी है। सरकार की कोशिश होगी की सरकारी खर्च इससे कम हो या फिर इसी स्तर पर रहे।

Loading...

Leave a Reply