micro-units-development-and-refinance-agency

मोदी सरकार की इस अहम योजना पर भी पड़ी नोटबंदी की मार

मोदी सरकार की इस अहम योजना पर भी पड़ी नोटबंदी की मार




नई दिल्ली: मोदी सरकार की नोटबंदी की मार माइक्रो यूनिट्स डिवलेपमेंट्स ऐंड रिफाइनैंस एजेंसी यानि (MUDRA) पर भी पड़ी है। 8 नवंबर 2016 को नोटबंदी लागू किये जाने के बाद MUDRA के तहत दिये जाने वाले कर्ज वितरण पर असर पड़ा है। इसका मतलब ये है कि इस स्कीम के तहत जितनी कर्ज वितरण की योजना थी उतनी नहीं हुई।

MUDRA के कार्यकारी अधिकारी जिजी मम्मेन के मुताबिक 1 अप्रैल से 31 दिसंबर 2016 के बीच हमने 80,000 करोड़ का कर्ज वितरण किया। लेकिन पिछले दो महीनों में नोटबंदी की वजह से कर्ज वितरण प्रभावित हुआ है। अगर नोटबंदी नहीं होती तो इससे कहीं ज्यादा कर्ज वितरण कर पाते।
MUDRA एजेंसी की स्थापना मोदी सरकार ने की है। इसकी शुरुआती पूंजी 5,000 करोड़ रुपये रखी गई है। यह उन सभी बैंकों को सुविधा उपलब्ध कराती है जो लघु उद्यमियों को कर्ज मुहैया कराते हैं। MUDRA योजना के तहत तीन श्रेणियों में कर्ज मुहैया कराया जाता है।

पहली श्रेणी शिशु कर्ज है। जिसके तहत 50,000 तक कर्ज मुहैया कराए जाते हैं। दूसरी श्रेणी किशोर श्रेणी है। जिसके तहत 50,000 से पांच लाख रुपये और तीसरी श्रेणी में पांच लाख से 10 लाख रुपये तक कर्ज दिया जाता है।

Loading...

Leave a Reply