खुश हो जाइये 1 फरवरी को मोदी सरकार आपके फायदे में कर सकती है ये बड़े ऐलान




नई दिल्ली: 1 फरवरी को मोदी सरकार आम बजट पेश करने जा रही है। नोटबंदी के बाद मोदी सरकार का ये पहला आम बजट होगा। इसलिए इस बजट से आम जनता के मन में कई तरह की दुविधा चल रही है। लेकिन आर्थिक जानकार बताते हैं कि मोदी सरकार बजट में जनता का खयाल रखने की पूरी कोशिश करेगी। इसकी एक वजह ये भी है कि सरकार को इस बात का एहसास है कि नोटबंदी की वजह से जनता को काफी परेशानी हुई है। अब सरकार ये कोशिश कर सकती है कि जनता के लिए बजट में कुछ रियायत का एलान किया जाए।

जानकार बताते हैं कि सरकार टैक्स की सीमा में छूट दे सकती है और इसे बढ़ाकर 3 लाख रुपये किया जा सकता है। जानकार कॉर्पोरेट टैक्स में भी छूट की उम्मीद जता रहे हैं। इससे अर्थव्यवस्था को गति मिलेगी। अभी ढाई लाख के सालाना इनकम पर किसी तरह का आयकर नहीं देना होता है। लेकिन 1 फरवरी को पेश होने वाले बजट में इस सीमा को बढ़ाकर तीन लाख कर सकती है। अगर सरकार ऐसा करती है तो इससे देश के 75 लाख लोगों को सीधा फायदा होगा।

नौकरी पेशा लोगों के साथ साथ सरकार किसानों के लिए भी खुशखबरी लेकर आ सकती है। किसानों के लिए शॉर्ट टर्म लोन और लॉन्ग टर्म लोन में ब्याज में कटौती कर सकती है। मौजूदा वक्त में किसानों को शॉर्ट टर्म लोन 7 फीसदी के ब्याज पर मिलता है। जिसमें वक्त पर लोन चुकाने पर 3 फीसदी की सब्सिडी दी जाती है। जिसके बाद इंटरेस्ट रेट 4 फीसदी हो जाता है। वहीं लॉन्ग टर्म लोन 12-13 फीसदी के इंटरेस्ट पर मिलता है। उम्मीद जताई जा रही है कि इसबार दोनों तरह के लोन पर 1-1 फीसदी इंटरेस्ट रेट की कटौती की जा सकती है।

होमलोन पर भी टैक्स छूट की सीमा बढ़ा सकती है। अबतक पहली बार घर खरीदने वाले लोगों को ढाई लाख रुपये तक के इंटरेस्ट पर टैक्स में छूट मिलती है। दूसरे होमलोन पर 2 लाख रुपये तक के इंटरेस्ट पर टैक्स में छूट मिली है।

स्टार्ट अप के लिए सरकार कोई बड़ा एलान कर सकती है। ताकि स्टार्टअप योजना के सपने को साकार किया जा सके। क्योंकि अभी उम्मीद के मुताबिक स्टार्टअप योजना का लाभ जनता तक नहीं पहुंच सका है। इसके साथ सरकार मुद्रा लोन के तहत टारगेट को भी बढ़ा सकती है। सरकार ने साल 2016-17 में मुद्रा लोन के लिए 1.86 लाख करोड़ का टारगेट रखा था। इससे सरकार नोटबंदी के बाद खासकर छोटे कारोबारियों को हुए नुकसान की भरपाई भी कराएगी।

एसबीआई की रिपोर्ट के मुताबिक इनकम टैक्स के सेक्शन 80 सी के तहत 1.5 रुपये के टैक्स सेविंग की लिमिट को बढ़ाकर 2 लाख रुपये किया जा सकता है। यह छूट एनपीएस में मिली 50 हजार रुपये की अतिरिक्त छूट से अलग होनी चाहिए। यानि अभी आप इसके जरिये दो लाख रुपये तक की टैक्स सेविंग करते हैं जो बढ़कर ढाई लाख रुपये तक हो सकती है।

Loading...

Leave a Reply