मोदी सरकार की इस योजना से खान से निकलेगा भरपूर सोना




नई दिल्ली: केंद्र सरकार बंद पड़ी कोलार खान को दोबारा शुरु करने की तैयारी कर रही है। अनुमान है कि इन खानों में तकरीबन 120 अरब रुपये का डिपॉजिट्स बचा है। ये खान पिछले 15 साल से बंद पड़े हैं। इसके पीछे एक कोशिश ये भी है कि खानों से कोयला निकालकर विदेशों से सोने के आयात को कम किया जाए।

सरकार की तरफ से संचालित मिनरल एक्सपलोरेशन कॉर्पोरेशन लिमिटेड ने इन खानों में डिपॉजिट्स के सही आनुमान के लिए कर्नाटक के कोलार गोल्ड फील्ड्स का अध्ययन शुरु किया है। पहले कोलार गोल्ड फील्ड का नियंत्रण भारत गोल्ड माइंस लिमिटेड के जिम्मे था। सरकार ने एसबीआई कैपिटल को इस अध्ययन का जिम्मा सौंपा है। इस बात का भी पता लगाया जाएगा कि वर्करों और अथॉरिटीज का कंपनी पर कितना बकाया है।

सोना आयात करने में भारत चीन के बाद दूसरे नंबर पर है। विदेशों से सोना खरीदने में सरकार हर साल 200 अरब रुपये खर्च करती है। भारत में हर साल तकरीबन 1000 टन सोने का आयात किया जाता है। जबकि सोने का घरेलू उत्पाद महज 2 से 3 टन प्रति वर्ष है। कच्चे तेल के बाद भारत सबसे ज्यादा आयात सोने का करता है।

Loading...