पीएम मोदी के MEME पर घिरी कांग्रेस, जानिये कहां से आया के MEME

नई दिल्ली:  कांग्रेस ने एक बार फिर से वही गलती कर दी है जो मणिंशंकर अय्यर ने 2014 के लोकसभा चुनाव से पहले किया था। तब अय्यर ने पीएम मोदी को चायवाला कहकर पुकारा था। उसके बाद बीजेपी ने इसी चायवाला शब्द से कांग्रेस को पानी पिला दिया। अब गुजरात चुनाव से पहले एक बार फिर कांग्रेस की यूथ ब्रिगेट ने चायवाले की चर्चा शुरु कर दी है। इसबार यूथ कांग्रेस ने MEME के जरिये पीएम मीदी की एक तस्वीर अपने ऑनलाइन मैगजीन के ट्वीटर हैंडल युवा देश पर अपलोड कर दी। लेकिन जब गलती का एहसास हुआ तो उसने पोस्ट डिलीट कर दिया। लेकिन तबतक उसका स्क्रिन शॉट सोशल मीडिया में छा चुका था। कांग्रेस ने खुद को इससे अलग कर लिया है।

यूथ कांग्रेस के इसी MEME पर बवाल मचा है। बीजेपी कांग्रेस के इस MEME का बदला चुनाव मैदान में लेने की बात कह रही है। MEME या मीम का सीधा मतलब ये है कि किसी के चित्र या लेख को व्यंक की तरह इस्तेमाल करना। यूथ कांग्रेस ने इसी मीम के सहारे पीएम मोदी को अपना शिकार बनाया।

मीम शब्द प्राचीन यूनानी शब्द मीमेमा से बना है। इसका मतलब होता है नकल करना या नकल उतारना। अगर मीम के दूसरे मायनों में देखा जाए तो मीम एक विचार, व्यवहार या शैली है जो एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति तक विचारों को पहुंचाता है। यही मीम अब सोशल मीडिया में दूसरे का मजाक बनाने के लिए इस्तेमाल हो रहा है।

इस MEME का पहला इस्तेमाल ब्रिटिश विकासवादी जीवविज्ञानी रिचर्ड डॉकिंस को जाता है। जिन्होंने 1976 में अपनी किताब द सेल्फिश जीन में इसका उपयोग किया था।

इस मीम के चक्कर में खुद बीजेपी के ही नेता भी फंस गए। परेश रावल ने यूथ कांग्रेस के चायवाला ट्वीट के जवाब में अपने ट्वीटर हैंडल से ट्वीट किया जिसमें उन्होंने लिखा हमारा चायवाला भी तुम्हारे बार वाले से बेहतर है।

लेकिन परेश रावल के इस ट्वीट पर विवाद शुरु हो गया। जिसके बाद उन्होंने माफी मांगते हुए इस ट्वीट को डिलीट कर दिया। उन्होंने माफी मांगते हुए लिखा मैंने ट्वीट डिलीड कर दिया है क्योंकि ये ठीक नहीं था और भावनाओं को आहत करने के लिए माफी मांगता हूं।

Loading...