चीन ने आतंकी मसूद अजहर को एक बार फिर माना अपना दोस्त

नई दिल्ली:  जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मसूद अजहर को अंतरराष्ट्रीय आतंकी घोषित करने में एक बार फिर चीन ने अड़ंगा लगा दिया है। चीन ने मसूद अजहर को आतंकी सूची में डालने के प्रस्ताव पर तकनीकी रोको को और तीन महीने के लिए बढ़ा दिया है। चीन ने इसी साल फरवरी में मसूद अजहर को संयुक्त राष्ट्र की ग्लोबल टेरर की सूची में डालने की अमेरिकी कदम को अवरुद्ध कर दिया था। इस तकनीकी रोक की समय सीमा 2 अगस्त थी। लेकिन चीन ने समय सीमा खत्म होने ठीक पहले इसे और तीन महने के लिए बढ़ा दिया है।

2 अगस्त वाली समयी सीमा से पहले अगर चीन ने इसे बढ़ाया नहीं होता तो मसूद अजहर का नाम स्वत: ही संयुक्त राष्ट्र की आतंकियों की सूची में शामिल हो जाता। जिसके बाद उसपर कई तरह के प्रतिबंध लग जाते। उसके यात्रा पर प्रतिबंध लग जाते, उसकी संपत्ति कुर्क हो जाती। सबसे खास बात ये रहती कि ये सबकुछ उसी पाकिस्तान की आंखों के सामने होता जिसने मसूद अजहर को अपन दामाद बना कर रखा हुआ है।

पिछले साल भी 15 देशों की सदस्यता वाली सुरक्षा परिषद में चीन एकमात्र ऐसा देश था जिसने भारत के इस अनुरोध पर रोक लगवा दी थी। जबकि सभी 14 देश भारत की तरफ से जैश को आतंकी की सूची मे डालने के अनुरोध के समर्थन में थे।

Loading...

Leave a Reply