ARJAN SINGH

फाइव स्टार मार्शल अर्जन सिंह को दी गई अंतिम विदाई

फाइव स्टार मार्शल अर्जन सिंह को दी गई अंतिम विदाई

नई दिल्ली:  भारतीय वायूसेना के मार्शल अर्जन सिंह के पार्थिव शरीर को अंतिम दर्शन के लिए दिल्ली के बरार स्क्वॉयर पर रखा गया। जहां उन्हें रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण, पूर्व पीएम मनमोहन सिंह समेत कई लोगों ने उन्हें श्रद्धांजलि दी। मार्शल के सम्मान में सरकारी इमारतों पर लगे राष्ट्रीय ध्वज को आधा झुका दिया गया है। उनका अंतिम संस्कार पूरे राजकीय सम्मान के साथ किया जा रहा है।

पीएम मोदी ने भी गुजरात के दौरे से लौटने के बाद रविवार को सीधे मार्शल अर्जन सिंह को श्रद्धांजलि दी। पीएम मोदी ने मार्शल के लिए एक संदेश भी लिखा था।

तबीयत बिगड़ने के बाद वायुपुत्र अर्जन सिंह को सेना के रिसर्च एंड रेफरल अस्पताल में भर्ती कराया गया था। जहां शनिवार शाम को उनका निधन हो गया था। जिसके बाद उनके पार्थिव शरीर को दिल्ली के 7ए कौटिल्य मार्ग पर उनके आवास पर रखा गया था। जिसके बाद अंतिम दर्शन के लिए उनके पार्थिव शरीर को बरार स्क्वॉयर में लाया गया।

अर्जन सिंह ऐसे पहले वायु सेना अधिकारी थे जिन्हें फाइव स्टार रैंक दिया गया था। उन्हें वायुसेना में सबसे ऊंचा पद मार्शल का रैंक दिया गया था। खासबात ये है कि मार्शल कभी रिटायर नहीं होता है। केवल 44 साल की उम्र में ही उन्हें भारतीय वायुसेना का नेतृत्व करने की जिम्मेदारी सौंपी गई थी। अर्जन सिंह ने 1965 के भारत-पाकिस्तान युद्ध के नायक रहे थे। और पाकिस्तान को घुटने टेकने के लिए मजबूर कर दिया था। 98 साल की उम्र में उनका निधन हुआ।

मार्शल अर्जन सिंह के पास 60 तरह के विमान उड़ाने का अनुभव था। अर्जन सिंह बहुत कम बोलने वाले शख्सियत के तौर पर जाने जाते थे। वो एक लड़ाकू पायलट थे और वायु शक्ति के बारे में उन्हें काफी गहन जानकारी थी। यही वजह है कि उन्हें वायुपुत्र भी कहा जाता है।

Loading...

Leave a Reply