मनोहर पर्रिकर बने गोवा के सीएम, दो बार लेनी पड़ी शपथ




नई दिल्ली: मनोहर पर्रिकर ने गोवा के मुख्यमंत्री पद की शपत ले ली है। उन्हें राज्यपाल मृदुला सिन्हा ने शपथ दिलाई। सीएम पर्रिकर के साथ 8 मंत्रियों ने भी सपथ ली। इनमें से दो बीजेपी के, दो एमजीपी के, दो जीएफपी के और दो निर्दलीय शामिल हैं। पर्रिकर 16 मार्च को बहुमत साबित करेंगे। मनोहर पर्रिकर को दो बार शपथ लेनी पड़ी। क्योंकि उन्होंने एक बार मुख्यमंत्री की जगह मंत्री बोल दिया था।

मनोहर पर्रिकर के साथ साथ जिन मंत्रियों ने शपथ ली उनमें

  • मनोहर पर्रिकर सीएम
  • फ्रांसिस डिसूजा- बीजेपी
  • पांडुरंग मडकैकर-बीजेपी
  • सुदिन ढवलिकर- एमजीपी
  • मनोहर त्रिंबक अजगांवकर- एमजीपी
  • विजय सरदेसाई- जीएफपी
  • विनोदा पलिएंकर- जीएफपी
  • गोविंद गौड़े- निर्दलीय
  • रोहन खाउंटे- निर्दलीय

मनोहर पर्रिकर के शपथ ग्रहण पर असमंजस के बादल भी मंडरा रहे थे। क्योंकि उनके सीएम बनने के खिलाफ कांग्रेस ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की थी। जिसमें कहा गया था कि राज्यपाल ने सबसे बड़ी पार्टी कांग्रेस की बजाय बीजेपी को सरकार बनाने का न्यौता दिया। इस मामले पर सुनावई के बाद सुप्रीम कोर्ट ने पर्रिकर के शपथ ग्रहण पर कोई रोक नहीं लगाई। साथ ही पर्रिकर को 16 मार्च को बहुमत साबित करने का आदेश दिया है।

हलांकि सुप्रीम कोर्ट में कांग्रेस ने पर्रिकर के शपथ ग्रहण के खिलाफ जो याचिका दी थी उसपर कोर्ट की तरफ से कांग्रेस को फटकार भी लगाई गई।
मामले की सुनवाई करते हुए जस्टिस जे एस खेहर ने पूछा कि अगर कांग्रेस के पास संख्या है तो वह राज्यपाल के पास क्यों नहीं गए। कांग्रेस की तरफ से मामले की पैरवी कर रहे अभिषेक मनु सिंघवी से कोर्ट ने पूछा क्या आपने समर्थक विधायकों की लिस्ट राज्यपाल को सौंपी थी। सुप्रीम कोर्ट ने ये भी पूछा कि आप कैसे कह सकते हैं कि मनोहर पर्रिकर ने खरीद फरोख्त की है।

Loading...