राजीव कुमार को CBI के सामने पेश होना होगा, लेकिन गिरफ्तारी पर रोक- SC

नई दिल्ली:  सीबीआई बनाम कोलकाता पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार के मामले पर सुप्रीम कोर्ट का आदेश आया है। सुप्रीम कोर्ट ने राजीव कुमार को सीबीआई के सामने पेश होने का आदेश दिया है। साथ ही सुप्रीम कोर्ट ने राजीव कुमार की गिरफ्तारी पर रोक लगा दी है। इस मामले में सुप्रीम कोर्ट ने पश्चिम बंगाल के चीफ सेक्रेटरी को नोटिस जारी किया है। चीफ सेक्रेटरी को 18 फरवरी तक इस मामले में जवाब दाखिल करना है।

सुप्रीम कोर्ट ने अवमानना मामले में नोटिस भी जारी किया है। 18 फरवरी तक इसका जवाब दाखिल करना है। इस मामले की अगली सुनवाई 20 फरवरी को होगी। चीफ जस्टिस ने कहा डीजीपी, पुलिस कमिश्नर और चीफ सेक्रेटरी 20 फरवरी को सुप्रीम कोर्ट में पेश हों।

कोलकाता पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार से शिलॉन्ग में सीबीआई दफ्तर में पूछताछ होगी। इसे ममता सरकार के लिए बड़ा झटका माना जा रहा है। क्योंकि राजीव कुमार के समर्थन में ही सीएम ममता बनर्जी कोलकाता में तीन दिन से धरने पर हैं। हलांकि ममता ने कहा है कि राजीव की गिरफ्तारी पर रोक हमारी बड़ी जीत है।

दरअसल रविवार को शारदी चिट फंड घोटाले में सीबीआई के पांच अफसर पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार से पूछताछ करने उनके घर पर पहुंचे थे। लेकिन कोलकाता पुलिस ने सीबीआई अफसर को हिरासत में ले लिया था। कुछ घंटों के बाद उन सीबीआई अफसर को पुलिस ने रिहा कर दिया। लेकिन इसपर बड़ा बवाब तब शुरु हो गया जब सीएम ममता बनर्जी खुद राजीव कुमार को बचाने उनके घर पर पहुंच गई। बाद में ममता बनर्जी धरने पर बैठ गईं। ममता के साथ कमिश्नर राजीव कुमार भी धऱने पर बैठे थे। जिसपर काफी विवाद भी हुआ। हलांकि ममता के इस धरने को विपक्षी दलों ने समर्थन दिया था।

राजीव कुमार पर शारदा चिट फंड घोटाले में सबूत मिटाने के आरोप हैं। राजीव कुमार घोटाले की जांच के लिए बनी एसआईटी का नेतृत्व कर रहे थे। और उनपर सबूत मिटाने के आरोप हैं। इसी सिलसिले में सीबीआई राजीव कुमार से पूछताछ करना चाहती थी।

(Visited 11 times, 1 visits today)
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *