भोपाल में NOTA के समर्थन में पोस्टर ‘मैं सवर्ण हूं वोट मांगकर शर्मिंदा न करें’

भोपाल/मध्य प्रदेश:  नवंबर महीने में होनेवाले विधानसभा चुनाव से पहले सरकार के खिलाफ सवर्णों का विरोध और नाराजगी अब पोस्टर की शक्ल में बाहर आया है। भोपाल में पोस्टर लगाया गया है। जिसमें राजनीतिक दलों के लिए लिखा गया है कि वो वोट मांगकर शर्मिंदा न करें। इस पोस्टर में साथ ही लिखा गया है कि मैं सवर्ण समाज से हूं।

भरत नगर सवर्ण समिति की तरफ से घरों के बाहर इस तरह के पोस्टर लगाए गए हैं। इन पोस्टरों में लिखा गया है मैं सामान्य वर्ग से हूं। कृपया कोई भी राजनीतिक दल वोट मांगकर शर्मिंदा ना करें। पोस्टर में आगे लिखा गया है वोट फॉर NOTA…

दरअसल सवर्णों की इस नाराजगी के पीछे सबसे बड़ी वजह है एससी/एसटी एक्ट पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के खिलाफ केंद्र सरकार की तरफ से लाया गया अध्यादेश। सुप्रीम कोर्ट ने एससी/एसटी एक्ट पर फैसला सुनाया था कि इस एक्ट के तहत अगर कोई शिकायत करता है तो दूसरे पक्ष की तुरंत गिरफ्तारी नहीं हो सकती है। लेकिन केंद्र सरकार सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले के खिलाफ अध्यादेश लेककर आई।

केंद्र सरकार ने अपने अध्यादेश से सुप्रीम कोर्ट के फैसले को पलट दिया। यानि केंद्र सरकार ने ये सुनिश्चित कर दिया कि अगर कोई एससी/एसटी एक्ट के तहत किसी पर आरोप लगाता है तो दूसरे पक्ष की तुरंत गिरफ्तारी हो। केंद्र सरकार के अध्यादेश में अग्रिम जमानत की व्यवस्था भी खत्म कर दी गई है। यानि अगर कोई दलित केवल शिकायत कर देता है तो सबसे पहले गिरफ्तारी होगी फिर उस मामले की जांच होगी।

यही वजह है कि केंद्र सरकार के खिलाफ सवर्ण समाज का गुस्सा फूट पड़ा है और उनमें नाराजगी भी देखी जा रही है। हलांकि चुनाव को देखते हुए मध्यप्रदेश की शिवराज सरकार ने इस एक्ट के तहत तुरंत गिरफ्तारी पर रोक लगाई है। लेकिन इतने से बात नहीं बनी। क्योंकि लोग इसे चुनावी स्टंट बता रहे हैं और कहा जा रहा है कि चुनाव के बाद फिर सबकुछ पहले जैसा ही हो जाएगा।

सवर्ण समाज की मांग है कि जबतक केंद्र सरकार की तरफ से इसे निरस्त नहीं किया जाता है और संशोधन वापस नहीं लिया जाता है तबतक विरोध जारी रहेगा। इसलिए सवर्ण समाज इसबार चुनाव में किसी राजनीतिक दल के उम्मीदवार को वोट देने के बजाय NOTA का इस्तेमाल करने का मन बना रहा है। मध्यप्रदेश में 28 नवंबर को विधानसभा चुनाव है।

(Visited 72 times, 1 visits today)
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *