जेल से लालू ने बिहारवासियों के नाम भेजा खत, तेजस्वी ने पढ़कर सुनाया

पटना:  रांची में लालू की किस्मत का फैसला हो रहा था और पटना में तेजस्वी यादव प्रेस कांफ्रेंस में अपने पिता जी का भावुक संदेश कार्यकर्ताओं को सुना रहे थे। तेजस्वी बता रहे थे लालू जी ने कार्यकर्ताओं के नाम खुला खत भेजा है। जिसमें उन्होंने अपने राजनीतिक सफर के बारे में विस्तार से जिक्र किया है। लालू ने कहा है कि वो हमेशा दबे कुचले लोगों की बात करते रहे हैं इसलिए उन्हें राजनीतिक साजिश के तहत फंसाया जा रहा है। चारा घोटाला भी उनमें से एक है।

खत में लालू लिखते हैं मुझे वो सारे क्षण याद आ रहे हैं जब देश में गांव, गरीब, पिछड़े, शोषित, वंचित और अल्पसंख्यकों की लड़ाई लड़ना कितना कठिन था। वो ताकतें जो सैंकड़ों साल से इनका शोषण करती चली आ रही थी वो नहीं चाहते थे कि वंचित वर्गों के हिस्से का सूरज भी कभी जगमगाएगा। लेकिन पीड़ितों की पीड़ा और सामूहिक संघर्ष ने मुझे अद्भुत ताकत दी और इसी कारण से हमने सामंती सत्ता के हजारों साल के उत्पीड़न को शिकस्त दी। लेकिन इस सत्ता की जड़े बहुत गहरी हैं और अभी अलग अलग संस्थाओं पर काबिज है।

खत के आखिर में लालू ने एक कविता लिखी है। जिसके मुताबिक उन्हें लोकतंत्र की परवाह है, लालू के भाईचारे की परवाह है इसलिए बोलता है।

झूठ अगर शोर करेगा

तो लालू भी पुरजोर लड़ेगा

मर्जी जितने षडयंत्र रचो

लालू तो जीत की ओर बढ़ेगा

अब, इनकार करो चाह अपनी रजा दो

साजिशों के अंबार लगा दो

जनता की लड़ाई लड़ते हुए

आपका लालू तो बोलेगा चाहे जो सजा दो

Loading...