लालू ने नीतीश को माना गठबंधन का नेता लेकिन इसमें लग गए 5 दिन

पटना: बाहुबली आरजेडी नेता शहाबुद्दीन की रिहाई के पांच दिन बाद आरजेडी सुप्रीमो लालू यादव ने भी नीतीश कुमार को बिहार में महागठबंधन का नेता मान लिया। लालू यादव ने कहा बिहार में सरकार के भीतर कोई मतभेद नहीं है। नीतीश कुमार ही महागठबंधन के नेता हैं। शहाबुद्दीन पर उन्होंने कहा कि उसे न्याय अदालत से मिला है। मैंने या नीतीश कुमार ने उसकी कोई मदद नहीं की है।

दरअसल 10 सितंबर को भागलपुर जेल से रिहाई के बाद शहाबुद्दीन ने लालू को अपना नेता बताया था और नीतीश कुमार को परिस्थितियों का सीएम। उसी के बाद से लालू यादव राजनीतिक निंदा के पात्र बन गए थे। शहाबुद्दीन ने नीतीश कुमार की तुलना झारखंड के पूर्व सीएम मधु कोड़ा से भी की थी।

विवाद इसलिए भी जोर पकड़ रहा था क्योंकि सीएम नीतिश कुमार पर शहाबुद्दीन के बयान के बाद अरजेडी नेता रघुवंश प्रसाद ने भी उसके बयान का समर्थन करते हुए नीतीश कुमार को परिस्थियों का सीएम बना दिया था। लेकिन तब आरजेडी सुप्रीमो लालू यादव ने चुप्पी साध ली थी। उन्होंने तब न तो शहाबुद्दीन पर कुछ कहा था और ना ही रघुवंश प्रसाद के बयान पर।

सूत्र बताते हैं कि लालू यादव के इस रुख से सीएम नीतीश कुमार भी खफा थे। महागठबंधन की एक और घटक कांग्रेस ने भी आरजेडी की तीखी निंदा की थी। कांग्रेस ने कहा था कि अगर आरजेडी को महागठबंधन से दिक्कत है तो वो गठबंधन से बाहर निकल जाए।

वहीं अब बिहार सरकार दोबारा शहाबुद्दीन पर शिकंजा कसने की तैयारी में है। बिहार सरकार को सौंपी गई रिपोर्ट में कहा गया है कि शहाबुद्दीन की वजह से शहर में डर और दहशत का माहौल है। रिपोर्ट में उसे वापस जेल भेजने की सिफारिश भी की गई है।

Loading...