कुमार विश्वास का प्रियंका पर निशाना पूछा- 84 के दंगों में खून क्यों नहीं खौला?

नई दिल्ली:  भीड़ का हिंसक हो जाना और फिर उस फीड़ में किसी शख्स को मार डालना। इस तरह की घटनाएं देश के अलग अलग हिस्सों में हो रही है। पीएम मोदी भी अलग अलग मंचों से कह चुके हैं कि हिंसा का सहारा लेकर गौ सेवा हो सकती है क्या। इसके बाद नेशनल हेराल्ड के 70 साल पूरे होने पर आयोजित कार्यक्रम में भी राष्ट्रपति ने भी इसपर चिंता जाहिर की।

नेशनल हेराल्ड के उसी कार्यक्रम में जब कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी की बेटी प्रियंका गांधी वाड्रा से सवाल किया गया कि भीड़ के द्वारा किसी को मार डालने की जो घटना हो रही है उसपर वो क्या सोचती हैं तो इसपर प्रियंका का कहना था कि जब वो टीवी या समाचार पत्रों में इस तरह की खबर देखती हैं तो उनका खून खौल उठता है।

प्रियंका के खून खौलने वाले इस बयान पर आम आदमी पार्टी के नेता कुमार विश्वास ने प्रियंका पर निशाना साधा है। कुमार विश्वास ने कहा इनका खून तो 1984 से खौलना चाहिए था। या गांधी परिवार का खून 1984 से खौलना चाहिए था। या उस वक्त उन्हें बोलना चाहिए था जब पूर्व प्रधानमंत्री ने बयान दिया था कि इस देश के प्राकृतिक संसाधनों पर पहला अधिकार अल्पसंख्यकों का है।

कुमार विश्वास ने कहा जब प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने इस तरह का बयान दिया था तब उन्हें सामने आकर कहना चाहिए था कि इस तरह का बयान देना गलत है। उस वक्त उनका खून क्यों नहीं खौला। कुमार विश्वास ने कहा इस तरह के मौसमी नेताओं के खून में इसी तरह से उबाल आता है और फिर ठंडा हो जाता है। कुमार ने कहा आज इनके खून में उबाल आया है कुछ दिनों बाद जब इनके भाई नानी के घर से वापस आएंगे तब उनका खून खौलेगा।

साथ ही कुमार विश्वास ने कहा कि भीड़ के हिंसक होने की जो घटना हो रही है वो काफी चिंताजनक है। केवल खाने पीने के नाम पर किसी को मार देना ठीक नहीं है। साथ ही कुमार ने कहा कि अगर पीएम के कहने के बाद भी इस तरह की घटनाएं नहीं रुक रही हैं तो ये हालात गंभीर है।

Loading...