AAP के इस पोस्टर में तो केजरीवाल के ऊपर छा गए विश्वास

नई दिल्ली:  राजनीति में पोस्टर का अपना महत्व होता है। कहा जाता है पोस्टर की ऊंचाई से सियासी शख्सियत की गहराई का अंदाजा लगाया जाता है। सियासी सागर में पोस्टर की तरंगे फिजूल में थोड़े ही उफान मारती हैं। सागर की लहरें साहिल से टकराकर वापस लौट जाती होंगी लेकिन ये सियासत है जहां पोस्टर की लहरें जब उठती हैं तो वो और ऊपर बढ़ती चली जाती हैं और अपने पीछे छोड़ जाती है अनेकों सवाल।

आम आदमी पार्टी यानि AAP का भी एक ऐसा ही पोस्टर सोशल मीडिया में धड़ाधड़ शेयर हो रहा है। आप कहेंगे इसमें खास क्या है। लेकिन हम कहेंगे ये आम भी नहीं है क्योंकि ये AAP का पोस्टर है और इसपर हजार सवाल पूछे जा रहे हैं। खास इसलिए है क्योंकि इसमें केजरीवाल के ऊपर विश्वास चढ़ बैठे हैं। इतना चढ़ गए हैं कि केजरीवाल के चेहरे को पूरा ढक ही दिये हैं।

इस पोस्टर में 3 दिसंबर को होनेवाले AAP के कार्यकर्ता संवाद के बारे में जानकारी दी गई है। लेकिन जिस तरह से पोस्टर को तैयार किया गया है उससे ये जाहिर हो रहा है कि क्या कुमार विश्वास अपने परम मित्र अरविंद केजरीवाल से आगे निकल चुके हैं। क्योंकि पोस्टर तो यही संदेश दे रहा है। जहां केजरीवाल गौण हैं और विश्वास विद्यमान हैं। इस पोस्टर को खुद विश्वास ने भी रीट्वीट कर एक तरह से चित्रकार को अपनी स्वीकृति और शुक्रिया दोनों दे दिया है।

इस पोस्टर ने AAP के उन दो गुटों को सोशल मीडिया पर एक्टिव कर दिया है। विश्वास और केजरीवाल समर्थक गुट एक दूसरे पर टिप्पणी कर रहे हैं, सवाल पूछ रहे हैं, आरोप लगा रहे हैं और कह रहे हैं तुम्हारे वाले नेता हमारे वाले नेता के पीछे ही अच्छे हैं। जवाब के तीर उधर से भी छोड़े जा रहे हैं जिसमें कहा जा रहा है जो कुछ हैं हमारे वाले ही हैं।

पिछले दिनों स्थापना दिवस पर रामलीला मैदान में मंच पर विश्वास और केजरीवाल नजर तो आसपास आए थे। लेकिन दोनों के बीच संवाद गैर हाजिर था। यानि शरीर से दोनों करीब थे लेकिन विचार और सोच से एक दूसरे से दूरी कायम कर ली थी।

Loading...

Leave a Reply