खूंटी: पत्थलगड़ी समर्थकों ने बीजेपी सांसद के घर पर किया हमला, तीन सुरक्षा गार्ड अगवा

खूंटी/झारखंड:  झारखंड के खूंटी में एकबार फिर से पत्थलगड़ी के नाम पर खुलेआम गुंडागर्दी की गई है। यहां के खूंटी में पत्थलगड़ी समर्थकों ने बीजेपी सांसद कड़िया मुंडा के घर पर हमला कर दिया। उन्होंने कड़िया मुंडा के घर पर तैनात तीन सुरक्षा गार्डों को भी हथियार के साथ अगवा कर लिया है। उनकी मांग है कि जबतक सरकार उनसे बात करने नहीं आती है तबतक उन्हें नहीं छोड़ा जाएगा।

खूंटी से मिल रही जानकारी के मुताबिक मंगलवार को खूंटी के घाघरा गांव में पत्थलगड़ी करने के लिए बड़ी संख्या में आदिवासी जमा हुए थे। जब पुलिस ने इन्हें रोकने की कोशिश की तो पत्थलगड़ी समर्थक और पुलिस के बीच झड़प शुरु हो गई। इसी दौरान पत्थलगड़ी समर्थकों ने बीजेपी के सांसद कड़िया मुंडा के घर पर तैनात तीन सुरक्षा गार्डों को अगवा कर लिया।

आदिवासियों ने तीनों सुरक्षा गार्डों को अनिगड़ा गांव में बंधक बनाकर रखा है। पुलिस ने गांव को चारों तरफ से घेर लिया है। ग्राम सभा ने कहा था कि पुलिस के पांच प्रतिनिधि मंडल गांव में आएं और उनसे बात करें जबकि पुलिस ने कहा कि ग्राम सभा के पांच प्रतिनिधि उनसे आकर बात करें। लेकिन बात नहीं बनी जिसके बाद पुलिस और गांव वाले आमने सामने हैं।

ये सारा विवाद तब बढ़ा जब पुलिस ने आदिवासी ग्राम सभा के नेता यूसुफ पूर्ति के घर पर छापेमारी की। जहां से आपत्तिजनक साहित्य और कई सामान मिले थे। जिससे आदिवासी नाराज थे और पत्थलगड़ी करने निकले थे। ग्राम सभा ने बैठक कर वोटर आईडी कार्ड, आधार कार्ड और दूसरे प्रमाण पत्र जला दिये।

खूंटी चार दिन पहले भी सुर्खियों में आया था। जब एक एनजीओ की पांच महिलाओं का अपहरण कर लिया था और उनके साथ जंगल में गैंगरेप किया था। पुलिस के मुताबिक पत्थलगड़ी समर्थकों ने गैंगरेप को अंजाम दिया। पुलिस अभी इस मामले की जांच कर रही है।

क्या है पत्थलगड़ी?

पत्थलगड़ी आदिवासियों की एक पुरानी परंपरा है। जिसके जरिये पत्थल गाड़कर इलाके को चिन्हित कर दिया जाता है। और उसे प्रतिबंधित क्षेत्र घोषित कर दिया जाता है। जिसमें किसी बाहरी व्यक्ति का प्रवेश वर्जित होता है।

(Visited 12 times, 1 visits today)
loading...