लोकसभा में पीएम मोदी ने विपक्ष की बोलती बंद की, राहुल को भूकंप से जोड़ा




नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लोकसभा में विपक्ष के हर आरोप का जवाब दिया। पीएम राष्ट्रपति के अभिभाषण पर बोल रहे थे। पीएम ने अपने संबोधन के शुरुआत में ही राहुल गांधी का जिक्र किया। पीएम ने कहा भूकंप आ ही गया। पीएम ने कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी पर चुटकी लेते हुए कहा कि धमकी तो पहले दी गई थी भूकंप अब आया। मैं सोच रहा था आखिर भूकंप आया कैसे। कोई तो वजह रही होगी जो धरती मां रुठी।

पीएम ने आगे कहा जब स्कैम में सेवा और नम्रता का भाव देखता है तब जाकर के मां ही नहीं धरती मां भी रुठ जाती है और तब भूकंप आता है। दरअसल राहुल ने पिछली सत्र के दौरान कहा था मोदी जी हमें बोलने नहीं देते। और जिस दिन में सदन में बोलूंगा भूकंप आ जाएगा।

पीएम कांग्रेस के हर आरोप का जवाब दिया। उन्होंने कहा मल्लिकार्जुन जी कह रहे थे कांग्रेस की वजह से अब भी लोकतंत्र बचा है और आप पीएम बन सके। वाह क्या शेर सुनाया है। लेकिन उस पार्टी के लोकतंत्र को सब भलीभांति जानते हैं। पूरा लोकतंत्र एक परिवार को आहुत कर दिया गया है। 1975 में देश पर आपातकाल थोप कर देश को जेल खाना बना दिय गया था। अखबारों पर ताले लगा दिये गए थे। लेकिन जनशक्ति ने अपनी ताकत दिखाई और वही जनशक्ति की ताकत है कि गरीब मां का बेटा भी प्रधानमंत्री बन सकता है।

हम कुत्तों वाली परंपरा से पले बढ़े नहीं हैं। कांग्रेस पार्टी के जन्म से पहले ही 1857 का स्वतंत्रता संग्राम लोगों ने जान लगाकर लड़ा था। तब भी कमल था आज भी कमल है।हमें देश के लिए जीने का सौभाग्य मिला है और हम जीने की कोशिश कर रहे हैं। शास्त्री जी के कहने पर देश ने अन्न त्याग की पहल की थी। आज ज्यादातर सरकारों ने जन सामर्थ्य को पहचानना छोड़ दिया है।

हमने कहा जो सक्षम हैं वो सब्सिडी छोड़ सकते हैं क्या और उसके बाद 1 करोड़ 20 लाख से ज्यादा लोग गैस सब्सिडी छोड़ चुके हैं।

अबतक जितनी सरकार आई, जितने पीएम बने सबका अपना अपना योगदान रहा है। कांग्रेस पह हमला करते हुए कहा कि वो ऐसे बात करते हैं और उन्हें लगता है आजादी केवल एक परिवार ने दिलवाई है।

आम बजट पहले पेश करने पर पीएम ने कहा मई में बजट की शुरुआत होती है और दो-तीन महीने में बारिश शुरु हो जाती है। इन तीन महीनों में बजट का इस्तेमाल किया जाना मुश्किल हो जाता है। यूके की पार्लियामेंट की टाइम के मुताबिक बजट का टाइम शाम को किया गया था। हम उसी को ढो रहे थे। घड़ी को उलटी करके पकड़ने पर यूके का टाइम दिखाता है। अटल जी की सरकार ने बजट का टाइम बदला।

पहले कुछ लोगों को खुश करने के लिए घोषणाएं की जाती थी। मुझे लोगों के लिए फैसले लेने हैं इसलिए हम उस दिशा में आगे बढ़ रहे हैं।

नोटबंदी पर पीएम ने कहा हम शुरु से कह रहे थे कि नोटबंदी पर चर्चा के लिए तैयार हैं। विपक्ष चर्चा से ज्यादा टीवी बाईट देने में रुचि ले रहा था।

पीएम ने कहा आपको लगता था अभी चर्चा हुआ तो मोदी फायदा ले जाएगा। लेकिन इसबार आपने थोड़ी गंभीरता दिखाई है।

2014 से पहले आवाज आती थी टूजी में कितना खाया, आसमान, वायु के करप्शन में कितना गया। अब हो रहा है मोदी जी कितना लाए। पहले आवाज उठती थी कितना गया अब आवाज आ रही है कितना लाया। यही तो सही कदम है।

1988 राजीव गांधी की सरकार बनी। तब नेहरु से ज्यादा बहुमत आपके पास था, आप ही आप थे कोई नहीं था। तब आपने बेनामी संपत्ति का कानून बनाया। लेकिन उसे नोटिफाई नहीं किया गया। अगर उस वक्त आपको ज्ञान हुआ होता तो देश काफी हद तक साफ सुथरा हो जाता। वो कौन लोग थे जिन्हें कानून बनने के बाद ज्ञान हुआ कि उसे दबाने में फायदा है। मैं सदन के माध्यम से पूरे देश को कहना चाहता हूं आप कितने ही बड़े क्यों न हो गरीब के हक का आपको लौटाना पड़ेगा। मैं इस रास्ते से पीछे हटनेवाला नहीं हूं। मैं गरीबों के लिए लड़ाई लड़ रहा हूं। लोग देश को लूटते रहे इसलिए देश को जिस ऊंचाई पर पहुंचना चाहिए था पहुंच नहीं पाया।

आपको (कांग्रेस) चुनाव का डर था हमें चुनाव की चिंता नहीं देश की चिंता है। इसलिए हम निर्णय ले रहे हैं। पीएम ने चार्वाक के दर्शन का उल्लेख किया। जबतक जियो मौज करो,चिंता किस बात की कर्ज लो और घी पियो। उन्होंने भगवंत मान का भी जिक्र किया पीएम ने कहा भगवंत मान तो और कुछ पीने को कहते हैं। लेकिन उस वक्त संस्कार थे इसलिए घी पीने की बात कही थी।

ऑपरेशन से पहले डॉक्टर शरीर को ठीक करता है। उसी तरह से नोटबंदी के लिए ये वक्त उपयुक्त था। अर्थव्यवस्था दुरुस्त था। दिवाली में सालभर के बराबर व्यापार हो जाता है। इसलिए दिवाली के ठीक बाद नोटबंदी का फैसला लिया गया। दिवाली के बाद सामान्य कामकाज होता है। दुकानदार भी आराम करते हैं।

पहले आयकर अधिकारी मनमर्जी से कहीं भी धमकते थे। नोटबंदी के बाद सारी चीजें रिकॉर्ड पर हैं। अब टॉप नामों को निकालकर आयकर अधिकारी को एसएमएस कर उसके बारे में पूछना है। उन्हें कहीं जाने की जरुरत नहीं है।

जिनके पास बेनामी संपत्ति है वो अपने सीए से पूछ लें आगे का प्रावधान क्या है। मैं चाहता हूं सभी देश की मुख्य धारा में आएं।

हमारी सरकार बनने के बाद सबसे पहले एसआईटी बनाई। 26 मार्च 2014 को सुप्रीम कोर्ट ने कहा था 65 सालों में सरकार नाकाम रही। विदेश से कालाधन वापस लाने के लिए कोई कोशिश नहीं की गई। विदेश में जमा काला धन के खिलाफ कठोर कानून बनाया। सजा 7 साल से 10 साल कर देंगे।

टैक्स हैवन देशों के साथ समझौते हुए हैं। वो रीयल टाइम रिपोर्ट देंगे। कोई भी भारतीय पैसा रखेगा तो हमें पता चल जाएगा।

दो लाख से ज्यादा ज्वैलरी खरीदने पर पैन नंबर देना जरुरी किया तो लोगों ने चिट्टियां लिखी कि पैन नंबर देने का नियम हटा दें। लेकिन मैंने नहीं माना और फैसला लागू कर दिया 1100 से ज्यादा पुराने कानून खत्म किये।

नोटबंदी में लोग बार बार नियम बदलने की बात करते हैं। जनता की तकलीफ देखकर उस हिसाब से फैसला ले रहे थे। लेकिन जो लूटने वाले थे उनका रास्ता बंद करना पड़ता था। तू डाल डाल मैं पात पात वाली बात थी।

मनरेगा में 1 हजार 35 बार नियम बदले गए। मनरेगा नई चीज नहीं है बल्कि काफी पुरानी है केवल नाम नया है। अब उसका नाम तय हुआ है मनरेगा। मोदी ने काका हाथरसी को भी याद किया। पीए ने काका हाथरसी की कविता भी सुनाई। उन्होंने कहा

अंतर पट में खोजिये छिपा हुआ है खोट
मिल जाएगी आपको बिल्कुल सत्य रिपोर्ट

नियत में खोट रहने पर नीति जीरो हो जाती है। कर्म अधर्म सबके बारे में आपको पता था।
नेशनल ऑप्टिकल फाइबर नेटवर्क 2011-2014 में तीन साल में केवल कुछ गांव तक ये पहुंचा। लेकिन हमने अबतक 76 हजार गांव में ऑप्टिकल फाइबर नेटवर्क का काम पूरा हो गया।

एक एटीएम को संभालने में 5 पुलिस वाले लगते हैं। सब्जी, दूध के मोबीलाइजेशन से ज्यादा खर्च कैश के मोबीलाइजेशन में होता है। ई-वॉलेट से गरीबों का पैसा बचा। कांग्रेस के जमाने में एक दिन में 69 किलोमीटर सड़क बनती थी। अब 111 किलोमीटर सड़क बनती है। सड़क बनाने में स्पेस टेक्नॉलॉजी का इस्तेमाल हो रहा है।

पहले 10 लाख 83 हजार घर बनता था हमारी सरकार ने 22 लाख 27 हजार घर बनाए एक साल में। योजनाबद्ध तरीके से बदलाव के लिए काम किया। उद्यम से कार्य सिद्ध होते हैं केवल मनोरथ से नहीं। सोए सिंह के मुख में हिरण प्रवेश नहीं करता है शेर को ही प्रयास करना पड़ता है।

पिछले दो साल में बिजली उत्पादन की क्षमता बढ़ी। सोलर एनर्जी को लाया गया। 2014 में 2700 मेगावाट थी आज वो 9 हजार 1 मेगावाट पहुंच चुकी है। कोयले में 1300 करोड़ का ट्रांसपोर्टेशन खर्च कम हुआ।

हमने 21 करोड़ एलईडी बल्ब हमने लगाए हैं। जिससे परिवार में बिजली का बिल कम हुआ है। 11 हजार करोड़ की बचत हुई है।

हमारी सरकार भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ाई लड़ने वाली सरकार है। 17 मंत्राल के 84 योजनाओं को आधार लिंक से जोड़ा। 1.56 लाख लोगो को सीधे खाते में पैसा दिया। इससे बड़े-बड़े लोगों को तकलीफ हो रही है। मुझे मालूम है मुझपर जुल्म होनेवाले हैं। फर्जी राशन कार्ड वाले गरीब का हक छीनते थे।

आधार लिंक का इस्तेमाल कर करीब 4 करोड़ फर्जी राशन कार्ड पकड़े गए। मनरेगा में आधार से पेमेंट दिया जाता है। 7633 करोड़ रुपया का लीकेज बचा है। करीब 50 हजार करोड़ रुपया बिचौलिये खा जाते थे। हमने उसे रोक कर के दिखाया है।

यूरिया के लिए राज्य सरकार हमें चिट्ठी लिखा करते थे। लेकिन पिछले दो साल मे किसी मुख्यमंत्री को चिट्ठी नहीं लिखनी पड़ी। हमने यूरिया को नीम कोटीन कर दिया। आपको भी इसका ज्ञान था 5 अक्टूबर 2007 में को आपने इसे मान्यता दी। लेकिन आपने कैप लगाई 35 फीसदी। जबतक आप 100 फीदसी नहीं करेंगे उसका लाभ नहीं होगी। हमने 100 फीसदी यूरिया नीम कोटीन कर दिया। आप 6 साल में केवल 20 फीसदी किया। ये है कार्य संस्कृति का फर्क।

2009 के लोकसभा चुनाव 1100 करोड़ का खर्च हुआ। 2014 में 4000 करोड़ खर्च हुए। सुरक्षाबलों को चुनाव में लगाना पड़ता है। एक साथ चुनाव कराने पर विचार होना चाहिए। मुद्रा योजना से 2 करोड़ से ज्यादा लोगों को फायदा। अपने इलाके के किसानों को सॉयल हेल्थ कार्ड के बारे में बताइये। गन्ना उत्पादन में 15 फीसदी की बढ़ोतरी। गांवों में तालाब से गरीबों का भला होगा। छोटे उद्योगों को बढ़ावा देने पर जोर। धान के उत्पादन में 5 फीसदी बढ़ोतरी।

नोटबंदी पर पूछ रहे हैं इसे सीक्रेट क्यों रखा लेकिन सर्जिकल स्ट्राइक पर कोई नहीं बोल रहा है। सर्जिकल स्ट्राइक विपक्ष को परेशान कर रही है। विपक्ष सर्जिकल स्ट्राइक से अंदर ही अंदर घुट रहा है। देश की सेना का जितना गुणगान किया जाए वो कम है। सर्जिकल स्ट्राइक से आपको अंदर से पीड़ा हो रही है।

हम सबका उद्येश्य देश को बुराइयों से मुक्त कराना, आपके अंदर के उत्तम विचारो का स्वागत है।

Loading...

Leave a Reply