दिग्वजय सिंह ने दिया है बेहद ही शर्मनाक बयान, कश्मीर में सेना को बताया ‘विलेन’

दिग्वजय सिंह ने दिया है बेहद ही शर्मनाक बयान, कश्मीर में सेना को बताया ‘विलेन’

नई दिल्ली:  कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह ने एक बार फिर बेहद ही शर्मानक बयान दिया है। दिग्विजय सिंह ने कहा है कि कश्मीर के लोगों को एक तरफ आतंकवादी मारते हैं और दूसरी तरफ सेना के जवान। दिग्विजय सिंह ने अपने इस बयान से एक बार फिर साबित कर दिया है कि उनकी निष्ठा देश के प्रति नहीं बल्कि कश्मीर के उन पत्थरबाजों के प्रति है जो सेना पर आए दिन पत्थर फेंकते हैं और पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगाते हैं।

सबसे हैरान करनेवाली बात ये है कि दिग्विजय सिंह ने अपने इस बयान में कहीं भी सीआरपीएफ जवान के साथ हुई उस घटना या उस वीडियो का जिक्र नहीं किया जिसमें कश्मीरी युवक चुनाव ड्यूटी से लौट रहे सीआरपीएफ जवान पर पत्थर और लात घूंसे बरसा रहे हैं। चुनाव ड्यूटी से लौट रहे सीआरपीएफ के उन जवानों के हेलमेट के उन युवकों ने पैरों से ठोकर मारी थी।

ये भी पढें :

– एजाज खान भूल गए मर्यादा, पीएम मोदी और सीएम योगी पर बेहद आपत्तिजनक बोल
– सेक्स सीडी में फंसे AAP के पूर्व नेता संदीप कुमार MCD चुनाव में बीजेपी के साथ

लेकिन इतना होने के बाद भी जवानों ने धैर्य का परिचय दिया था। उनके पास AK 47 राइफल भी थी। लेकिन उन्होंने उसका इस्तेमाल करने के बजाय शांति के साथ सबकुछ सहन करने का फैसला लिया। कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह को उन जवानों का वो धैर्य दिखाई नहीं दे रहा था।

kashmirian-treat-indian-army

दिग्विजय सिंह ने उस वक्त ये बयान दिया है जब कश्मीर में सीआरपीएफ जवान की पिटाई का वीडियो हर तरफ वायरल हो रहा है। हर तरफ उसकी चर्चा की जा रही है। लेकिन दिग्विजय सिंह को केवल उमर अब्दुल्ला का ट्विट किया वो तस्वीर दिखाई दे रहा है जिसमें सेना की जीप पर एक युवक बंधा है। लेकिन दिग्विजय सिंह को ये पता होना चाहिए कि उसे जीप पर इसलिए बांधा गया था ताकि चुनाव ड्यूटी में फंसे जवानों को पत्थर फेंकनेवाले कश्मीरी युवकों के बीच से निकाला जा सके। बाद में उस युवक को सुरक्षित छोड़ दिया गया था।

दरअसल 9 अप्रैल को श्रीनगर के पुलवामा में उप चुनाव था। लेकिन कश्मीरी युवकों ने वहां पत्थरबाजी शुरु कर दी। उनलोगों ने कुछ जवानों को भी पकड़ा लिया था। जिसके बाद सेना ने उन्हीं में से एक पत्थरबाज को पकड़कर जीप में बांध दिया ताकि भीड़ में फंसे जवानों को सुरक्षित निकाला जा सके।

Loading...

Leave a Reply