आतंकी बने फुटबॉलर की घर वापसी, मां के आंसू को देखकर पसीजा दिल

आतंकी बने फुटबॉलर की घर वापसी, मां के आंसू को देखकर पसीजा दिल

नई दिल्ली:  कश्मीर का फुटबॉलर खेल के मैदान से निकलकर आतंक की गलियों में पहुंच गया था। उसने हाथ में बंदूक थाम ली थी और इसांनियत का खून बहने निकल चुका था। लेकिन हालात में एक बार फिर करवट मारी और 20 साल का माजिद खान दोबारा से आतंक की बस्ती से निकलकर अपने घर पहुंच गया। उसके इस कदम की सभी ने सराहना की। पुलिस ने भी उसे माफ कर दिया। उस कश्मीरी फुटबॉलर के घर वापस लौटने के फैसले का स्वागत किया। दरअसल माजिद के घरवालों से लेकर पुलिस तक इस कोशिश में लगी थी कि किसी तरह से माजिद गलत रास्ते को छोड़कर वापस इंसानितय की बस्ती में लौट जाए।

माजिद पिछले शुक्रवार को लश्कर में शामिल हुआ था। एके-47 के साथ उसकी फोटो भी वायरल हुई थी। उसके लश्कर से जुड़ने की खबर जब  उसके घर तक पहुंची तो सभी के पैरों तले जमीन खिसक गई। इसके बाद माजिद ने अपनी मां का वीडियो देखा। जिसमें वो रोते हुए माजिद से लौट आने के लिए कह रही थी। माजिद ने गुरुवार रात को अपनी मां को फोन किया। जिसमें उसने आतंक का रास्ता छोड़कर घर वापस लौटने की बात कही।

जम्मू कश्मीर पुलिस और सेना की ज्वाइंट प्रेस कांफ्रेंस में साउथ कश्मीर के आईजी मुनीर अहमद खान ने कहा ये उसके घरवालों की कामयाबी है। ना तो उसने सरेंडर किया और ना ही उसे गिरफ्तार किया गया है। वो खुद अपनी मर्जी से घर लौटा है। पुलिस उसका ध्यान रखेगी।

सेना के मेजर जनरल बीएस राजू ने कहा माजिद ने बहादुरी भरा फैसला किया है। मैं इसकी तारीफ करता हूं और भरोसा दिलाता हूं कि जल्द ही वह अपनी नॉर्मल जिंदगी में व्यस्त हो जाएगा।

Loading...

Leave a Reply