कानपुर रेल हादसे का मास्टरमाइंड ISI एजेंट शमशुल हुदा गिरफ्तार




नई दिल्ली:  भारतीय रेल को पटरी से उतारने वाला शमशुल हुदा अब एनआईए के शिकंजे में है। शमशुल पर कानपुर समेत कई दूसरे जगहों पर हुए रेल हादसे की प्लानिंग करने का आरोप है। अबतक की पूछताछ में ये बात भी सामने आई है कि शमशुल का संबंध पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी ISI के साथ भी है। शमशुल को दुबई में गिरफ्तार किया गया था। जिसके बाद उसे नेपाल प्रत्यर्पित किया गया।

हुदा नेपाल का रहनेवाला है। मंगलवार सुबह शमशुल दुबई से नेपाल पहुंचा। जहां उसे गिरफ्तार कर लिया गया है। नेपाल में भारतीय जांच एजेंसी एनआईए, रॉ, आईबी के अफसर मौजूद हैं। पूछताछ में हुदा कई अहम खुलासे कर सकता है। हुदा ने नेपाल में चुनाव भी लड़ा था। लेकिन वो चुनाव हार गया। जिसके बाद उसने नकली नोटों का धंधा शुरु किया। लेकिन  नोटबंदी की वजह से उसका ये धंधा खत्म हो गया। इसके बाद उसने भारतीय रेल को उड़ाने की साजिश रचने लगा।

कानपुर में हुए रेल हादसे में 150 यात्री मारे गए थे। जबकि 200 से ज्यादा लोग घायल हुए थे। पिछले दिनों बिहार पुलिस ने नेपाल बॉर्डर से हुदा के साथियों को गिरफ्तार किया था। उन्हीं ने पूछताछ में हुदा का नाम लिया था। हुदा अपना नेटवर्क नेपाल के ही बृज किशोर गिरी उर्फ बाबा गिरी, शंभू गिरी और मुजाहिर अंसारी के जरिये चलाता था। इन तीनों को नेपाल में गिरफ्तार किया गया।

बृज किशोर ने बिहार के तीन अपराधी उमाशंकर पटेल, मोतीलाल पासवान और मुकेश यादव को इंदौर-पटना एक्सप्रेस और सियालदह-अजमेर एक्सप्रेस को हादसे का शिकार बनाने के लिए तीन लाख रुपये दिये थे। इन तीनों बदमाशों ने कबूल किया था कि उन्होंने नेपाल के एक ISI एजेंट के लिए काम किया था।

Loading...