JMM के चुंबन प्रतियोगिता पर बीजेपी ने उठाए सवाल, प्रेम बढ़ाने का ये कैसा तरीका

गोड्डा/झारखंड:  झारखंड के पाकुड़ जिले में शनिवार यानि 9 दिसंबर को आदिवासी समाज में प्रेम और सौहार्द बढ़ाने के लिए एक अजीब प्रतियोगिता कराया गया। खासबात ये है कि इस प्रतियोगिता का आयोजन झारखंड मुक्ति मोर्चा की तरफ से किया गया था। इसे ‘चुंबन प्रतियोगिता’ नाम दिया गया था। इसमें सबसे ज्यादा देर तक चुंबन करने वाले को पुरस्कृत किया गया।

इस प्रतियोगिता में लिट्टीपाड़ा से जेएमएम विधायक साइमन मरांडी और महेशपुर के विधायक स्टीफन मरांडी भी मौजूद थे। इन माननीय विधायक के सामने ही कई पति पत्नी सार्वजनिक तौर पर एक दूसरे का चुंबन कर रहे थे। इस दौरान दोनों विधायक समेत पार्टी के दूसरे पदाधिकारी और कार्यकर्ता भी मौजूद रहे। इसका आयोजन साइमन मरांडी के पैतृक गांव तालपहाड़ी के मेले में किया गया था।

सौजन्य- दैनिक भास्कर

जेएमएम की तरफ किये गए इस आयोजन पर बीजेपी ने कड़ी आपत्ति जताई है। इस मामले पर गोड्डा से बीजेपी सांसद निशीकांत दूबे ने NTI से हुई खास बातचीत में कहा कि एक राजनीतिक पार्टी की तरफ से इस तरह का आयोजन शर्मनाक है। बीजेपी इसके खिलाफ राज्य भर में पुतला दहन करेगी। साथ ही डीसी को इस मामले में एक ज्ञापन सौंपेगी। जिसमें मांग की जाएगी कि इस तरह के आयोजन करनेवालों पर FIR दर्ज किया जाए। साथ ही बीजेपी चुनाव आयोग से भी मांग करेगी कि इस तरह का घृणित काम करने वाली पार्टी की मान्यता रद्द की जाए।

जब उनसे सवाल किया गया कि जेएमएम का तर्क है कि इससे प्रेम सौहार्द बढ़ेगा। इसपर सांसद निशिकांत दूबे का कहना था कि अगर प्रेम सौहार्द ही बढ़ाना है तो इसमें आयोजनकर्ता को अपने घर के लोगों को भी शामिल करना चाहिए था। इसकी शुरुआत उन्हें अपने घर से करनी चाहिए।

इस आयोजन पर साइमन मरांडी का कहना है कि आदिवासी प्यार का इजहार करने में संकोची होते हैं। इसलिए प्रेम और आधुनिकता को बढ़ावा देने के लिए इस तरह की प्रतियोगिता करवाई गई है। अपने दिल की बात ना बता पाने के कारण आदिवासियों में पिछले कुछ वर्षों में पति-पत्नी के बीच झगड़े और तलाक के मामले बढ़े हैं। पढ़े लिखे ना होने की वजह से आदिवासी अपने आप को सामाजिक ढांचे में ढाल नहीं पाते हैं। इससे उनके व्यवहार और पारिवारिक रिश्ते कमजोर हो जाते हैं। इससे उनके मन का संकोच दूर होगा।

सौजन्य- दैनिक भास्कर

देश में इस तरह का आयोजन शायद पहली बार किसी जन प्रितिनिधि की तरफ से करवाया गया। क्योंकि इस तरह के कुकृत्य को रोकने के लिए यूपी में सीएम योगी की रोमियो स्क्वॉड के बारे में तो सभी ने सुना था। लेकिन पति पत्नी का सार्वजनिक तौर पर एक मेले में चुंबन प्रतियोगिता का प्रयोग अनूठा भी है और शर्मनाक भी है। बेहतर होता अगर इस तरह के चुंबन प्रतियोगिता की बजाय उन्हें शिक्षित करने के लिए किसी प्रतियोगिता का आयोजन किया जाता।

Loading...