रांची: नदी घाट पर ही होगा छठ महापर्व, झारखंड सरकार ने जारी की नई गाइडलाइन

रांची/झारखंड:  हेमंत सरकार ने छठ महापर्व को लेकर नई गाइडलाइन जारी कर दी है। नई गाइडलाइन के मुताबिक अब श्रद्धालु नदी घाट पर ही छठ महापर्व कर सकेंगे और अर्घ दे सकेंगे। झारखंड सरकार ने अपनी इस नई गाइडलाइन में इस बात का भी जिक्र किया है कि श्रद्धालु सोशल डिस्टेंसिंग के साथ घाटों पर छठ पर्व मनाएं। क्योंकि कोरोना से बचाव के लिए दो गज की दूरी जरुरी है। सीएम हेमंत सोरेन ने अपील करते हुए ये भी कहा कि ये मेरी व्यक्तिगत अपील है कि अधिक से अधिक लोग घरों में ही छठ पर्व मनाएं।

अपनी इस नई गाइडलाइन में सीएम हेमंत सोरेन ने कहा है कि छठ पर्व सामने है। पूरे देश, विशेषकर बिहार झारखंड जैसे राज्यों में इशकी महत्ता है। इसकी ढेर सारी शुभकामना। उन्होंन कहा आपदा विभाग ने पूर्व में जो गाइडलाइन जारी किया था वो भारत सरकार के आदेश के अनुरुप देश के पीएम के वचनों के अनुरुप निकाला गया था। आप उन बातों को याद करें देश के पीएम कहते हैं जबतक दवाई नहीं तबतक ढिलाई नहीं। दो गज की दूरी यही दो लाइन उस गाइडलाइन में है।

छठ महापर्व को लेकर रविवार को जारी गाइडलाइन के बाद से ही तमाम राजनीतिक दलों ने सीएम हेमंत सोरेन को पत्र लिखकर गाइडलाइन में जरुरी संशोधन करने की अपील की थी। खुद जेएमएम की तरफ से भी सरकार से गाइडलाइन में संशोधन की अपील की गई थी। सीएम को लिखी चिट्ठी में इस बात का जिक्र किया गया था कि छठ लोक आस्था का पर्व है। जिसमें नदी तट पर सूर्य को अर्घ्य दिया जाता है। ऐसे में नदी तट पर छठ महापर्व मनाने की मनाही करना जन भावना को आहत करना होगा।

हेमंत सोरेन सरकार छठ महापर्व पर गाइडलाइन जारी कर खुद ही घिर गई थी। खुद उनकी पार्टी जेएमएम ने भी इसपर असहमति जताई थी। जबकि बीजेपी ने इसे सरकार का तुगलकी फरमान करार दिया था। इधर सोशल मीडिया में भी इस बात की चर्चा जोरों पर थी कि छठ पर्व घाट पर ही मनाया जाएगा।

तमाम दलों और जनभावना को ध्यान में रखते हुए अब राज्य सरकार ने गाइडलाइन में संशोधन किया है। जिसमें दो गज की दूरी और तमाम सावधानी बरतते हुए नदी घाटों पर ही छठ पर्व मनाने की इजाजत दे दी है।

(Visited 101 times, 1 visits today)
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *