गोड्डा: सरकारी आश्वासन के बाद सुरेंद्र मोहन केसरी का 13वें दिन आमरण अनशन खत्म

गोड्डा/झारखंड:  अपनी अलग अलग मांगों को लेकर पिछले 13 दिनों से अनशन कर रहे महागामा अनुमंडल के जिला परिषद सदस्य सुरेंद्र मोहन केसरी ने अपना अनशन खत्म कर लिया। शनिवार शाम को सदर अस्पताल में एसपी राजीव रंजन सिंह ने जूस पिलाकर उनका आमरण अनशन खत्म करवाया। केसरी पिछले 2 अप्रैल से आमरण अनशन पर थे।

केसरी अपनी अलग अलग मांगों को लेकर आमरण अनशन पर थे। उनकी ज्यादातर मांगें राज्य और केंद्र सरकार से जुड़ी थीं। केसरी की तरफ से की जा रही मांग पर जिला प्रशासन ने उन्हें एक आश्वासन पत्र सौंपा है। जिसमें इस बात का भरोसा दिया गया है कि जिला परिषद सदस्य सुरेंद्र मोहन केसरी की जो मांग स्थानीय प्रशासन के अधीन है उसे संबंधित विभाग को भेज दिया जाएगा। और जो विषय सरकार के स्तर से लिये जाने हैं उस संबंध में मांग पत्र सरकार को प्रेषित की जाएगी।

केसरी औऱ जिला प्रशासन के बीच बनी सहमति

सुरेद्र मोहन केसरी 2 अप्रैल से महागामा में आमरण अनशन कर रहे थे। लेकिन तबीयत बिगड़ने के बाद उन्हें 12 अप्रैल को महागामा से गोड्डा सदर अस्पताल लाया गया था। जहां उनकी मेडिकल जांच की गई थी। उसके बाद से वो अदर अस्पताल में ही अपना आमरण अनशन जारी रखा था। लेकिन शनिवार को उनकी स्वास्थ्य जांच के बाद उन्हें रांची के रिम्स रेफर करने का फैसला लिया गया था।

शनिवार को एसडीओ नमन प्रियेश लकड़ा और सिविल सर्जन डॉ. बनदेवी झा के बीच उनके स्वास्थ्य को लेकर चर्चा हुई। जिसके बाद उनकी बिगड़ती तबीयत को देखते हुए उन्हें रिम्स भेजने का फैसला लिया गया था।

लेकिन जिला प्रशासन की तरफ से एक बार फिर से उन्हें समझाने और विश्वास में लेने की कोशिश की गई। जिसके बाद केसरी और जिला प्रशासन के बीच बात हुई। जिसके बाद वो आमरण अनशन खत्म करने पर राजी हुए।

Loading...