गोड्डा: सावन का महीना, दूसरी सोमवारी को शिव की भक्ति में लीन हुए भक्त

गोड्डा/झारखंड:  सावन का महीना जिसके नाम से ही रोम रोम स्पंदित हो उठता है। क्योंकि इसे शिव का महीना भी कहा जाता है। और जहां शिव का नाम आ जाए तो वहां पर तन मन में जोश और रोम रोम में शिव दर्शन की जिज्ञासा जीवंत हो उठना वाजिब ही है।

ऐसा ही कुछ हो रहा है इनदिनों देशभर के शिवालयों में जहां शिव भक्त अपने आराध्य की भक्ति में लीन हो चुके हैं। क्योंकि वो जानते हैं उनके भोले काफी भोले हैं अपने दरबार से वो किसी को खाली हाथ नहींजाने देंगे।

 गोड्डा में बाबा रत्नेश्वर के दरबार में सुल्तानगंज से जल लेकर चलने वाले डाकबंम को वैसे तो तकरीबन 105 किलोमीटर का सफर तय करना पड़ता है। लेकिन ये शिव का चमत्कार ही है जिसकी वजह से इस सफर को वो शारीरिक तकलीफ के बाद भी हंसते हंसते पूरा करते हैं। क्योंकि सभी के मन में एक ही बात चल रही होती है कि शरीर में होनेवाला कष्ट उनकी भक्ति की परीक्षा है। और इस परीक्षा पास होने के बाद ही शिव के दर्शन होंगे। जहां पर  उनकी मनोकामना भी पूर्ण होगी।बसइसी संकल्प के साथ कांवरिया सुल्तानगंज से गंगाजल लेकर चले आते हैं बाबा रत्नेश्वर के दरबार में जलाभिषेक करने। इस दूसरी सोमवारी को भी कांवरियों ने भोलेनाथ पर जल अर्पण किया। जिसके बाद बम बम के उद्घोष के साथ अपने घर की तरफ रवाना हुए। शिवपुर के बाबा रत्नेश्वर नाथ धाम में दूसरी सोमवारी को 127 डाक बंम ने जल अर्पण किया। इस मौके पर होम्योपैथी कॉलेज परसपानी और गायत्री परिवार के सदस्यों के द्वारा सेवा और प्राथमिक चिकित्सा उपलब्ध करवाया गया।

  एकतरफ कांवरियों के जयकारे से मंजिर शिवमय हो रहा था तो दूसरी तरफ आम जनता भी भक्ति में सराबोर होकर शिव मंदिर पहंच रही थी। दूसरि सोमवारी को सुबह से ही शिवपुर में अवस्थित शिव मंदिर में भक्तों की भारी भीड़ देखी गई।

Loading...